कर्नाटक चुनाव: कांग्रेस की शहरी नीति शहर की आम व्यवस्था के खिलाफ

कर्नाटक विधानसभा चुनाव

“नम्मे बेंगलुरु, नम्मे हेम्मे”(हमारा शहर, हमारा गर्व) का नारा कांग्रेस सरकार ने दिया था जब 2017 में मुख्यमंत्री सिद्धारमैया को यह एहसास हुआ था कि उन्हें कर्नाटक की राजधानी बैंगलोर के शहरी और शांत मतदाताओं से जुड़ने की आवश्यकता है। हालाँकि, कर्नाटक पडोसी राज्यों तमिल नाडू और केरल की तरह विकसित नहीं है लेकिन बेंगलुरु का राजनीतिक महत्त्व अनदेखा नहीं किया जा सकता है। यही कारण है कि कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी को इस बात का आभास हो गया है और दोनों ही अब कर्नाटक के लिए अपनी नीति पर काम कर रहे हैं।

भाजपा और कांग्रेस, दोनों ही राज्य के लिए नए घोषणापत्र का अनावरण करेंगे। इसके अतिरिक्त, कांग्रेस ने बेंगलुरु के लिए एक ब्रांड की तरह पहचान कराने वाला ‘लोगो’ तैयार किया था। यह नीदरलैंड की राजधानी में प्रदर्शित किये गये “आई ऍम एम्स्टर्डम” के प्रतीक से प्रेरित था। बेंगलुरु का “बी यु” उसके लोकाचार को दिखाने के लिए डिजाईन किया गया है जो मुख्यतः अपने उद्यान, नवाचार, तकनीकी कौशल और शुरूआती संस्कृति के लिए जाना जाने वाला स्थान है।

अगस्त 2017 में बेंगलुरु के विकास मंत्री केजे जॉर्ज ने शहर के बुनियादी ढाँचे को सशक्त बनाने के लिए 110 अरब का पैकेज जारी किया था। इसमें से 93.47 किलोमीटर की सड़कों की वाइट टॉपिंग, फुटपाथों के रीमॉडलिंग और 1000 सार्वजनिक शौचालयों के निर्माण शामिल हैं।

शहर की चुनावी मेह्त्त्वता समझाने के लिए यह तथ्य पर जोर दिया जा सकता है कि राज्य की 224 विधान सभा सीटों में से 28(बेंगलुरु की ग्रामीण सीट छोड़कर) सीट बेंगलुरु की है। इसके अतिरिक्त, यह राज्य में सबसे अधिक 70 शहरी सीटों की बहुमत हासिल किये हुए है। इन्ही गुणों के कारण सिद्धारमिया के बेंगलुरु को “नव कर्नाटक निर्नमन” (एक नया कर्नाटक बिल्डिंग) का केंद्र बना दिया है। जाहिर तौर पर, यह मुख्यमंत्री का अपने ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र से बाहर आने वाले दर्शकों से अपील करने का एक प्रयास है।

अतीत में राजनैतिक दलों ने मुख्य रूप से बेंगलुरु की झुग्गी झोपड़ियों को ही निशाना बनाया है क्योंकि वोटों की राजनीती में वे यहाँ धर्म के नाम पर वोट मांगते थे लेकिन 2013 के विधान सभा चुनाव में यह बात पूर्णतः सिद्ध हो गयी है कि यदि अब मध्यम वर्ग के लोगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो और भ्रष्टाचार के नाम पर राजनीती नहीं की गयी तो राजनीतिक दलों को इसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है

2008 में बेंगलुरु के शहरी जिले में मतदान प्रतिशत 58 प्रतिशत से घटकर 47.5प्रतिशत हो गया था जबकि राज्य का औसत मतदान 71.4 प्रतिशत था। लेकिन सिद्धारमिया की ब्रांडिंग स्कीम अपने आपको “सिटीजन वारियर” के नाम से संबोधित करने वाले नागरिकों के खिलाफ है। 

शहर की क्षयकारी प्रकृति को बेलांदूर झील द्वारा दिखाया जा सकता है जिसमें मौजूद रसायनों की गन्दगी के कारण उसमें समय समय पर आग लग जाती है। इसके अलावा विभिन्न स्थानों पर कूड़े के ढेर लगे हुए हैं, सड़कों पर गड्ढे हैं और सड़कों पर बिजली व्यवस्था नहीं है। 

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सिद्धारम्याह सरकार को दो बार झील के बारे में कुछ नहीं करने के लिए सतर्क किया है। दरअसल, बैरकघट्टा जैविक पार्क जिसे पयर्टकों के देखने के लिए रखा गया है के पास चल रहे गैरकानूनी उत्खनन के लिए मुख्यमंत्री की प्रतिक्रिया ने बेंगलुरु को फिर से तैयार करने की उनकी तथाकथित प्रतिबद्धता का खंडन किया है।

नियमित रूप से ट्रक आधा दर्जन टैंकरों से पानी छिड़कते हैं ताकि 4 किलोमीटर के दायरे में फैली हुई धूल को दूर किया जा सके। 1998 में कर्नाटक उच्च न्यायलय ने सरकार को खनन इकाइयों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित करने का आदेश दिया था। 2011 में राज्य सरकार ने इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ था। 

2011 में, स्टोन क्रेशर्स अध्यादेश के कर्नाटक विनियमन ने यह तय किया था कि सुरक्षित स्थान राष्ट्रीय राजमार्गों, मंदिरों, स्कूलों, नदियों और पशु अभयारण्यों और गांवों और कृषि भूमि से कम से कम एक किमी दूर होना चाहिए।

2013 में, सिद्धारम्या सरकार ने कानून को बदल दिया और सुरक्षित क्षेत्र और राष्ट्रीय राजमार्गों के बीच की दूरी को दो किलोमीटर तक और लिंक सड़कों और सुरक्षित क्षेत्र से 100 मीटर तक की दूरी को कम कर दिया, जो कि पहले 500 मीटर था।

बेंगलुरु के एक एनजीओ परियोजना वृक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार ने संशोधन करने के लिए कोई औचित्य प्रदान नहीं किया और केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री, हर्षवर्धन के हस्तक्षेप की मांग की।

सिद्धरामय्या के पूर्ववर्तियों की भूमिका भी कम नहीं रही है, इसलिए राजनीतिक प्रतिष्ठान के नागरिक मामलों के दृष्टिकोण और प्रबंधन में निरंतरता को दर्शाया गया था। यह नागरिकों की चिंताओं पर निहित स्वार्थों का समर्थन करने के लिए इच्छुक है।

2006 में, जनता दल (सेकुलर) -बीजेपी गठबंधन सरकार के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने आठ शहरी स्थानीय निकायों और 101 आसपास के गांवों के साथ बंगलौर महानगर पालकी (100 नगरपालिका के वार्ड शामिल) को एक साथ जोड़ दिया और ब्रुहाट बेंगलुरू महानानगर का गठन किया 198 वार्डों के पालकी जाहिरा तौर पर, कुमारस्वामी बैंगलोर की परिधि में बुनियादी ढांचे को बढ़ाना चाहते थे, लेकिन उनके आलोचकों ने उन उपकरणों का निर्माण करने का आरोप लगाया जो अंततः बृहन्मुंबई नगर निगम, भारत के धनी स्थानीय निकाय को प्रतिद्वंद्वी करेगा। बुनियादी ढांचे को शहर के मार्जिन तक लाने के स्थान पर इस निर्णय ने जमीन की कीमतों में वृद्धि की और बिल्डर लॉबियों को नागरिक निकायों में शॉट्स कॉल करने में मदद की।

2018 के चुनावों में यह पता चल जायेगा कि बेंगलुरु में मध्यम वर्ग की सार्थकता असल में है या नहीं। यह इस बात पर निर्भर करेगा कि विभिन्न दलों के घोषणा पत्र में इनको कितनी गंभीरता से लिया जायेगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here