Sat. Feb 24th, 2024
    कर्नल सुनीता बीएस ने रचा इतिहास, बनीं सशस्त्र सेना ट्रांसफ्यूजन सेंटर की पहली महिला कमांडिंग ऑफिसर

    कर्नल सुनीता बीएस ने दिल्ली कैंट में सशस्त्र सेना ट्रांसफ्यूजन सेंटर (AFTC) में कमांडिंग ऑफिसर की भूमिका निभाने वाली पहली महिला बनकर इतिहास रचा है। यह महत्वपूर्ण उपलब्धि भारतीय सशस्त्र बलों के भीतर लैंगिक समानता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

    इस ऐतिहासिक नियुक्ति से पहले, कर्नल सुनीता बीएस ने अरुणाचल प्रदेश में एक रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण फील्ड अस्पताल के कमांडिंग ऑफिसर के रूप में काम किया। उन्होंने उच्चतम गुणवत्ता वाली लड़ाकू चिकित्सा सहायता प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनकी अटूट समर्पण और विशेषज्ञता ने उन्हें पूरे सैन्य समुदाय में अत्यधिक सम्मान और प्रशंसा अर्जित की है।

    कर्नल सुनीता बीएस की असाधारण योग्यता और व्यापक अनुभव उन्हें सशस्त्र बलों के सबसे बड़े ब्लड ट्रांसफ्यूजन केंद्र AFTC का नेतृत्व करने के लिए एक आदर्श उम्मीदवार बनाती है। अत्याधुनिक सुविधाओं के लिए प्रसिद्ध, AFTC ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन में सबसे आगे है, जो स्टेम सेल क्रायोप्रेजर्वेशन, पूरी तरह से स्वचालित इम्यून-हेमेटोलॉजी एनालाइज़र, गामा विकिरण चैंबर और न्यूक्लिक एसिड टेस्टिंग (एनएटी) क्षमताओं जैसी अत्याधुनिक सेवाएं प्रदान करता है। 

    फ्रोजन रेड सेल फैसिलिटी रखने वाला भारत में पहला और एकमात्र लाइसेंसशुदा केंद्र होने के नाते, AFTC सशस्त्र बलों के कर्मियों और उनके परिवारों के स्वास्थ्य और कल्याण की रक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

    कर्नल सुनीता बीएस के अकादमिक, प्रशासनिक और व्यावसायिक कौशल का अनूठा मिश्रण उन्हें अपनी नई भूमिका की जटिलताओं को संभालने के लिए असाधारण रूप से तैयार करता है। पैथोलॉजी के उनके ज्ञान के साथ-साथ उनकी सिद्ध नेतृत्व क्षमताओं से निस्संदेह AFTC की निरंतर सफलता में योगदान होगा।

    कर्नल सुनीता बीएस की उल्लेखनीय उपलब्धियों की मान्यता में, DGAFMS लेफ्टिनेंट जनरल दलजीत सिंह ने उनकी अच्छी तरह से योग्य नियुक्ति पर उन्हें हार्दिक बधाई दी है। उन्होंने अपनी नई स्थिति में उत्कृष्टता प्राप्त करने की अपनी अत्यधिक क्षमता व्यक्त की है और उन्हें उनके भविष्य के प्रयासों में निरंतर सफलता की कामना की है।

    कर्नल सुनीता बीएस की AFTC के कमांडिंग ऑफिसर के रूप में नियुक्ति भारतीय सशस्त्र बलों के उच्चतम स्तर तक पहुंचने की इच्छा रखने वाली महिलाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत है। उनकी उत्कृष्टता के प्रति अटूट प्रतिबद्धता और उनकी अभूतपूर्व उपलब्धि ने इतिहास रचा है, जिससे भविष्य की पीढ़ियों के राहनुमाओं को सैन्य क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने का मार्ग प्रशस्त हुआ है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *