मंगलवार, फ़रवरी 25, 2020

मशहूर स्टार कमल हासन के स्टारडम से लेकर राजनीतिक करियर की यात्रा

Must Read

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की...

मशहूर अभिनेता-निर्देशक-निर्माता कमल हासन ने फिल्मी करियर के बाद अब राजनीतिक करियर में शामिल हो गए है। हासन ने अपनी नई राजनीतिक पार्टी मक्काल नीधि मैय्यम की शुरूआत की। करीब पांच दशक के सफल फिल्मी करियर के बाद 63 वर्षीय कमल हासन अब तमिलनाडु के राजनीतिक करियर में भाग्य आजमा रहे है। हसन दक्षिणी भारत के दिग्गज सुपरस्टार है।

हासन ने अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत दक्षिणी तमिलनाडु के मदुरै से की है। राज्य में फिल्मी हस्तियों से लेकर राजनीति में जाने का लंबा इतिहास रहा है। इसमें मुख्य तौर पर तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत जे जयललिता व एम जी रामचंद्रन शामिल है।

कमल हासन का फिल्मी करियर साल 1970 में तमिल फिल्म कालाथुर कन्नममा में निर्दोष अनाथ लड़के का अभिनय करने के बाद से ही शुरू हुआ। कमल हसन डांस सहायक भी रह चुके है। इसके बाद कमल ने अनुभवी फिल्म निर्माता और दादासाहेब फालके पुरस्कार प्राप्त दिवंगत के बालाचंदर का साथ प्राप्त किया था। जिन्होंने सुपरस्टार रजनीकांत को भी बनाया था।

कमल हासन ने अपने फिल्मी सफर में कई राष्ट्रीय और अन्य पुरस्कार जीते है। साल 1981 में बालाचंदर द्वारा निर्देशित सुपरहिट फिल्म एक दूजे के लिए में कमल ने हिन्दी फिल्मों की शुरूआत की। कमल हसन की पहचान रोमांटिक व एक्शन युवा हीरो के रूप में होने लगी।

कमल के एक्टिंग कौशल की तुलना शिवाजी गणेशन से की जाने लगी। कमल हसन ने अपने फिल्मी सफर में काफी पैसा व सम्मान हासिल किया। तमिल फिल्मों के साथ ही हिन्दी फिल्मों मे भी कमल हसन ने अपनी छाप छोडी।

फिल्म विश्वरूपम का हुआ था जमकर विरोध

अभिनेता कमल हासन का सबसे चुनौतीपूर्ण व खराब समय साल 2012-13 में आया था जब कुछ मुस्लिम समूहों ने अपने समुदाय के चित्रण के लिए हसन की फिल्म विश्वरूपम  का विरोध किया था।

अमेरिका व भारत में इस फिल्म के लिए उन्हें काफी धमकियां भी मिली थी। इस बवाल के बाद कमल हसन देश को छोडने वाले भी थे। लेकिन बाद में कुछ सीन पर से कटौती करने व बातचीत के बाद फिल्म रिलीज हो गई।

फिल्मी सफर के दौरान कमल हसन को राजनीति से दूर ही देखा जाता था। हसन अक्सर राजनीति और राजनीतिक विवादों से दूर रहते थे, हालांकि उनके समकालीन एक्टर रजनीकांत कभी-कभी राजनीति से ताल्लुक रखा करते थे।

राजनीति में प्रवेश

कमल हासन को वामपंथी विचारों का समर्थक के तौर पर भी देखा जाता है। हालांकि पिछले साल जयललिता की मृत्यु के कुछ महीने बाद से ही कमल हसन ने भ्रष्टाचार के मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठाया। अन्य कई मुद्दों पर सत्ताधारी एआईएडीएमके पर जमकर ट्विटर के माध्यम से आरोप भी लगाए।

कमल हासन के ट्वीट के बाद से ही सत्ताधारी पार्टी उन्हें कहने लगी कि राजनीति में प्रवेश किए बिना उन्हें पत्थर फेंकना नहीं चाहिए। इस पर कमल हसन ने भी राजनीति में जाने का फैसला कर लिया। धीरे-धीरे कमल हसन ने कई राजनीतिक नेताओं के साथ मुलाकात की। जिसमें दिल्ली, केरल व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री शामिल है।

कमल हासन नें अपने राजनैतिक कैरियर की शुरुआत करते हुए कहा था कि उनका रंग भगवा कभी नहीं होगा। इससे साफ़ है कि हासन लेफ्ट पार्टियों का समर्थन करेंगे। हासन नें अरविन्द केजरीवाल से कई बार मुलाकात की है, जो उनके राजनैतिक कैरियर का भविष्य साफ़ दर्शाता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -