Sat. Dec 10th, 2022

    कांग्रेस ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ कोरोना से मौत के आंकड़े छिपाने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज करने के लिए आवेदन दिया था।  लेकिन अब यहां पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के खिलाफ ही भोपाल में एफआईआर दर्ज करने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। कमल नाथ ने भी साफ कह दिया कि कोई एफआईआर न तो उन्हें दबा सकती है और न ही चुप करा सकती है “चाहे कुछ भी हो जाए मैं जनता के हक की आवाज को उठाता रहूंगा”। 

    मध्य प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार कोरोना से हुई मौतों का असल आंकड़ा छुपाना चाहती है। इंदौर में श्मशान और कब्रिस्तान के प्रमाणित आंकड़े किसी और ही तरफ इशारा कर रहे हैं। घटिया राजनीति कमल नाथ नहीं बल्कि मध्य प्रदेश की सरकार कर रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा और महासचिव मीडिया केके मिश्रा ने बताया कि प्रदेश में कई जगह मुख्यमंत्री के खिलाफ आंकड़े छिपाने के लिए एफआईआर दर्ज करने के आवेदन दिए गए हैं।

    “मुझे कोई एफआईआर दबा नहीं सकती” – कमल नाथ 

    कमल नाथ ने कहा कि सरकार से मौत के आंकड़े सार्वजनिक करने की मांग करने के बाद मुंह बंद करने के लिए मेरे खिलाफ एफआईआर कराई गई है। यदि हमारे आरोप गलत है तो सही आंकड़े प्रदेशवासियों के सामने क्यों नहीं रखे जा रहे हैं? उन्होंने पूछा कि प्रदेश में 16 साल में एक भी ऑक्सीजन प्लांट नहीं लगा तो क्या यह बात उठाना गलत है? रेमडेसिवीर इंजेक्शनों की कालाबाजारी होती रही है और जरूरतमंद इलाज के लिए तड़पते रहे, क्या यह बात उठाना गलत है? श्मशान घाटों में जगह न मिलने की बात उठाना गलत है? 

    इन वास्तविक मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए झूठे मुद्दे लाकर आवाज दबाने, डराने और झुकाने का जो प्रयास किया जा रहा है वो सफल नहीं होगा। भले ही कितनी भी एफआईआर दर्ज करा ली जाएं। उन्होंने कहा कि मैं चुप नहीं बैठूंगा और अव्यवस्था व सरकार की विफलताओं को लोगों के सामने लाता रहूंगा।

    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा  की कांग्रेस और कमल नाथ को जब जनता व सरकार के साथ आकर इस कठिन समय में महामारी से लड़ना था, उस समय वे मौत का उत्सव मना रहे हैं। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी धृतराष्ट्र क्यों बनी बैठी हैं? उन्होंने कहा कांग्रेस सिर्फ आग लगाने का काम करती है। आग लगाने का विचार कमल नाथ का विचार है या सोनिया गांधी की तरफ से यह निर्देश दिए गए हैं। अगर कमल नाथ अपने मन से यह सब कर रहे हैं तो सोनिया गांधी धृतराष्ट्र बन कर तमाशा क्यों देख रही हैं?

    मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार मध्य प्रदेश में जनता की सेवा में लगी रहेगी और हम मध्य प्रदेश में आग नहीं लगने देंगे।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *