सोमवार, अक्टूबर 14, 2019

जानिए कमजोर होते रुपये से देश की अर्थव्यवस्था पर क्या पड़ेगा असर?

Must Read

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां...

यूँ तो भारतीय अर्थव्यवस्था को वैश्विक स्तर पर सबसे तेज़ उभरने वाली अर्थव्यस्था का दर्ज़ा दिया जाता रहा है, लेकिन बीते कुछ हफ्ते भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बिलकुल भी अनुकूल नहीं रहे हैं। चाहे वो डॉलर के मुक़ाबले कमज़ोर होता रुपया हो या देश में बढ़ते हुए पेट्रोल डीज़ल के दाम।

इस साल के शुरुआत में रुपये में जो तेजी देखने को मिली थी, पिछले कुछ हफ्तों से वो लगातार कमजोर होती चली गयी और हालात ये बन गए हैं कि रुपया रोज़ ही अपने नए निम्नतम स्तर को छूने का रिकॉर्ड भी बनाता जा रहा है।

आइए आज हम आपको बताते हैं कमजोर होता रुपया हमारी अर्थव्यवस्था को किस तरह प्रभावित करेगा-

वस्तुओं के दामों में होगी बढ़ोतरी : कमजोर होते रुपये का सबसे बड़ा असर विभिन्न वस्तुओं के दामों पर पड़ेगा। कमजोर होते रुपये से सबसे ज़्यादा प्रभावित सोना और खनिज तेल जैसी वस्तुएं होंगी। इस तरह की वस्तुएं भारत हमेशा से आयात करता आया है और इसी वजह से गिरता रुपया इन वस्तुओं की कीमत को प्रभावित कर देगा। जिसका असर जल्द ही आम बाज़ार में भी देखने को मिल सकता है।

आयात व निर्यात पर पड़ेगा असर : कमजोर होते रुपये की वजह से देश का आयात व निर्यात बुरी तरह से प्रभावित होगा। सरल भाषा में कहें तो अब हमें किसी वस्तु को बाहर से मँगवाने के लिए ज़्यादा खर्च करना पड़ सकता है। इस तरह से देश का व्यापार घाटा भी बढ़ सकता है।

जीडीपी पर पड़ेगा बुरा असर : जीडीपी भी इससे अछूती नहीं रहेगी। कमजोर होता रुपया देश के अल्पकालिक विकास को प्रभावित कर देगा। इससे किसी भी क्षेत्र में मुनाफ़े की दर में कमी आ जाएगी।

ब्याज़ दरें होंगी प्रभावित : कॉर्पोरेट सेक्टर को अतिरिक्त ब्याज़ दरें भी प्रभावित कर सकती है इसी के साथ विदेशी निवेश के भी प्रभावित होने की संभावनाएं बनी रहेंगी।

हालाँकि इन सब के उलट डॉलर के मुक़ाबले कमजोर होते रुपये से उन निर्यातकों को इसका फ़ायदा मिल सकता है जो अपना समान किसी दूसरे देश में बेचते हैं और उसके बदले में उन्हे विदेशी मुद्रा हासिल होती है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

त्रिपुरा : महिला सांसद के खिलाफ आक्रामक टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

अगरतला, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा के एक व्यक्ति को राज्य की पुलिस ने लोकसभा सदस्य प्रतिमा भौमिक के खिलाफ...

7 साल बाद फिर क्यों सुर्खियों में आया निर्भया गैंगरेप का केस

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर(आईएएनएस)। साल 2012 के दिसंबर में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने देश को हिला कर रख दिया था। अब सात...

शरद रंगोत्सव में कवियों ने बांधा समां

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश भर से यहां आए एक दर्जन से अधिक कवियों-कवित्रियों की उपस्थिति में यहां रविवार को नटरंग शरद रंगोत्सव...

विजय हजारे ट्रॉफी : महाराष्ट्र 3 विकेट से जीता

वडोदरा, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। अजीम काजी के शानदार 84 रनों की मदद से महाराष्ट्र ने यहां खेले गए विजय हजारे ट्रॉफी के मैच में...

चीन-नेपाल मैत्री की जड़ मजबूत

बीजिंग, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शनिवार को काठमांडू में नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ मुलाकात की। दोनों ने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -