दा इंडियन वायर » धर्म » भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके
धर्म

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके

कभी राम बनके कभी श्याम बनके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

तुम राम रूप में आना, तुम राम रूप में आना
सीता साथ लेके, धनुष हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

तुम श्याम रूप में आना, तुम श्याम रूप में आना,
राधा साथ लेके, मुरली हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

तुम शिव के रूप में आना, तुम शिव के रूप में आना..
गौरा साथ लेके, डमरू हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

तुम विष्णु रूप में आना, तुम विष्णु रूप में आना,
लक्ष्मी साथ लेके, चक्र हाथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

तुम गणपति रूप में आना, तुम गणपति रूप में आना
रीधी साथ लेके, सीधी साथ लेके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

कभी राम बनके कभी श्याम बनके,
चले आना प्रभुजी चले आना॥

अंग्रेजी में lyrics

Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

Tum Ram Roop Mein Aana (X2)
Sita Saath Leke, Dhanush Haat Leke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

Tum Shyam Roop Mein Aana (X2)
Radha Saath Leke, Murli Haat Leke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

Tum Shiv Ke Roop Mein Aana (X2)
Gouri Saath Leke, Damru Haat Leke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

Tum Vishnu Roop Mein Aana (X2)
Lakhsmi Saath Leke, Chakra Haat Leke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

Tum Ganapati Roop Mein Aana (X2)
Riddhi Saath Leke, Siddhi Saath Leke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana
Kabhi Ram Banke Kabhi Shyam Banke
Chale Aana Prabhu Ji Chale Aana

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4 / 5. कुल रेटिंग : 26

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

About the author

विकास सिंह

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!