दा इंडियन वायर » विदेश » Omicron के मामले Peak पर, जानिये क्या है Doctors का कहना
विदेश समाचार

Omicron के मामले Peak पर, जानिये क्या है Doctors का कहना

ओमिक्रॉन के मामलो की चरम सीमा पर जानिये क्या है चिकित्सकों का क्या है कहना

ओमिक्रॉन वैरिएंट (Omicron Variant) के कारण कोरोना संक्रमन के मामले यूरोप के कुछ हिस्सों में चरम सीमा पर है | परन्तु चिकित्सकों का कहना है कि इसका प्रभाव पूरे यूरोप में महसूस होता रहेगा और अस्पतालों पर क्षमता से ज़्यादा मरीज़ो के दाख़िल होने का जोखिम अभी भी है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों और राजनेताओं ने चेतावनी देते हुए कहा कि यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि क्या उनका डेटा क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के कोरोना के मामलो पर प्रभाव को दर्शाता है या नहीं | जब परिवार लंबे समय तक घर के अंदर थे व वायरस के अंतरजनपदीय प्रसार का जोखिम ज़्यादा था।

यह भी पढ़ें : क्या है यह डेल्टाक्रोन? जानिए क्या है WHO का कहना

इसके अलावा, हालांकि टीकाकरण के कारण Omicron Variant के दुर्प्रभाव में कमी देखी गयी है। अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमणों के मामले पिछली लहरों की तुलना में कम है, फिर भी यूरोप का वैश्विक मामलों और मौतों में लगभग आधा हिस्सा है।

लेकिन ऐसे संकेत मिल रहे है कि ओमिक्रॉन संस्करण के कारण होने वाले संक्रमणों की वृद्धि जिसे पहली बार दक्षिणी अफ्रीका और हांगकांग में पहचाना गया था, कुछ क्षेत्रों में समतल या गिर रहा है।

ब्रिटेन के सात दिनों के औसत मामलों में अपने चरम से 30,000 की गिरावट आई है और स्पेन के प्रधान मंत्री का भी कहना है कि संक्रमण संख्या स्थिर हो रही है और एक फ्रांसीसी सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान ने कहा है कि लहर जनवरी के मध्य में चरम पर होगी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के यूरोप निदेशक हैंस क्लूज ने इस सप्ताह कहा, ” कई जगहों पर COVID PEAKपर पहुंच रहा है या पहुंच गया है। यह अनुमान से थोड़ा पहले हो सकता है, लेकिन याद रखें कि यह क्षेत्र बहुत विविध है।”

“तो हमें यूरोप के पूर्वी हिस्से, मध्य एशियाई गणराज्यों को ध्यान में रखना होगा, जहां COVID PEAK पर आना बाकी है।”

स्वीडन और स्विटजरलैंड के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा है कि उन दोनों देशों में इस महीने के अंत COVID PEAK पर पहुंचने का अनुमान है।डेनमार्क, जहां ओमिक्रॉन के मामले हावी हैं, ने इस सप्ताह कुछ प्रतिबंधों में ढील दी, स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि देश में महामारी अब नियंत्रण में है।ब्रिटेन के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय का भी कहना है कि इंग्लैंड में संक्रमण की वृद्धि में कमी आई है।

ब्रिटिश स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने गुरुवार को कहा कि अस्पताल में भर्ती होने की दर धीमी होने लगी है परन्तु अगले कुछ हफ्तों में स्वास्थ्य सेवा दबाव बने रहने की सम्भावना है ।

उन्होंने कहा, “ओमाइक्रोन का Transmission और बढ़ता है तो बड़ी संख्या में लोगों का हस्पातलो में भारत होना संभव है। ”

वही स्कॉटलैंड, जिसने इंग्लैंड की तुलना में ओमिक्रॉन इन्फेक्शन को फैलने से बचाने के लिए सख्त प्रतिबंध लगाए थे वो देश भी प्रतिबंधनो में ढील देने लगेगा।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]