Sun. Apr 14th, 2024
    sbi

    बैंक के कुछ लेनदेन जैसे भुगतान और निकासी आदि की प्रक्क्रियाओं में से प्लास्टिक के कार्ड की जरूरत को बिलकुल ख़त्म करने के एक प्रयास में एसबीआई (sbi) ने हाल ही में योनो एप (yono app) में एक नया फीचर जोड़ा है। इस नए फीचर के द्वारा ग्राहक बिना कार्ड का प्रयोग किये एटीएम नकदी निकाल पाएंगे। यह फीचर योनों एप में होगा और इसके साथ ही वे बैंक एप्लीकेशन का प्रयोग करके पॉइंट ऑफ़ सेल टर्मिनलों पर भुगतान की भी सुविधा की व्यवस्था कर रहा है।

    इस तरह ग्राहक निकाल सकेंगे बिना कार्ड के पैसे :

    जो ग्राहक योनो एप का प्रयोग करा रहा है तो अब उसे एटीएम से पैसे निकालने के लिए हर बार कार्ड का प्रर्योग करने की ज़रुरत नहीं होगी। कार्डलेस नकदी निकालने के लिए ग्राहक को एप में ही जानकारी देनी होगी। इसमें ग्राहक को अपनी निजी जानकारी और कितने पैसे निकालने हैं इसकी जजनकारी देनी होगी। इसके बाद ग्राहक के फ़ोन पर एक पिन आएगा जिसे एटीएम में डालने से ग्राहक पैसे निकाल पायेगा।

    16500 एटीएम पर कार्डलेस निकासी सेवा चालू :

    शुक्रवार को मुंबई में योनो कैश सेवा शुरू करते हुए, एसबीआई के अध्यक्ष रजनीश कुमार ने कहा कि कार्डलेस निकासी वर्तमान में 16,500 एसबीआई एटीएम में उपलब्ध है और जल्द ही यह सुविधा बैंक के सभी 60,000 एटीएम तक विस्तारित की जाएगी। जब पैसे निकालने के लिए एटीएम कार्ड का प्रयोग ही ख़त्म हो जाएगा तो उसके साथ ही एटीएम कार्ड से जुड़े खतरे भी टल जाएंगे। 

    इस सेवा का प्रयोग करके उपयोगकर्ता एक गतिशील कोड उत्पन्न कर पाएंगे, जिसका उपयोग किसी भी एसबीआई एटीएम से पैसे निकालने के लिए 30 मिनट के भीतर किया जा सकता है।

    एसबीआई योनो एप के बारे में :

    इस एप के जरिये एसबीआई बैंक की अधिकतर सुविधाएं ग्राहक अपने मोबाइल फ़ोन पर पा सकते हैं। इस ऐप के जरिये आप सिर्फ चंद मिनटों में एसबीआई बैंक का खाता खुलवा सकते हैं। इसके अलावा आप लोन लेने, बैलेंस जानकारी समेत सभी बैंक से जुड़ी सेवाओं को सिर्फ कुछ क्लिक के जरिये पा सकते हैं। इसी के साथ इस ऐप में आप कंप्यूटर के साथ बातचीत भी कर सकते हैं। यदि आपको ऐप से जुड़ी कोई भी जानकारी प्राप्त करनी हो, तो आप इसे यहाँ पूछ सकते हैं।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *