Thu. Dec 1st, 2022
    एयर इंडिया की बोली

    शुक्रवार को पेश किये गए बजट में सरकार ने कर्ज से झूझ रही एयर इंडिया को अपना कर्ज चुकाने के लिए कुल 3900 करोड़ रुपयों का आवंटन दिया है।

    आवंटन के बारे में पूरी जानकारी :

    अंतरिम बजट में पेश किये गए दस्तावेजों के अनुसार एयर इंडिया को कर्ज की पहली किश्त चुकाने के लिए सरकार ने उसको 1300 करोड़ आवंटित किये हैं। इसके बाद बचे 2600 करोड़ रुपयों का आवंटन अगले वित्त वर्ष में किया जाएगा। पहले सरकार इस एयरलाइन को बेचने पर विचार कर रही थी लेकिन अब सरकार इसे दुबारा चलने की योजना बना रही है जिसके चलते यह कर्ज चुकाया जा रहा है।

    एयर इंडिया को अति महत्वपूर्ण परिचालन के लिए विमानों की खरीद करने के लिए भी 1,084 करोड़ रुपये दिये जायेंगे. बजट में 2019-20 के लिए नागर विमानन मंत्रालय को कुल 4,500 करोड़ रुपये आवंटित किये गये हैं. चालू वित्त वर्ष में मंत्रालय को 6,602.86 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था जिसे संशोधित कर 9,700 करोड़ रुपये कर दिया गया था.

    एयर इंडिया पर कितना है कर्ज ?

    एयर इंडिया की इस बिक्री का कारण इस पर वर्तमान में कुल 55,000 करोड़ रूपए के ऋण को माना जाता है। सरकार ने शुरू में राष्ट्रीय वाहक की 76% इक्विटी शेयर पूंजी को बेचने के साथ-साथ प्रबंधन नियंत्रण निजी खिलाड़ियों को देने की योजना बनाई थी। खरीदार को वाहक के 24,000 करोड़ रुपये के कर्ज के साथ-साथ 8,000 करोड़ रुपये से अधिक की देनदारियों को लेना था।

    2007 से हो रहा घाटा :

    पिछली रिपोर्ट्स से यह पता चलता है की एयर इंडिया वित्त वर्ष 2007 से ही घाटे में चल रही है जिसके चलते इस पर कर्ज बढ़ता जा रहा है। 2017-18 वित्तीय वर्ष में इस वाहक पर 47,000 करोड़ का कर्ज रिपोर्ट किया गया था। इसके चलते सरकार ने इसकी परिसंपत्तियां बेचने की सोची थी।

    लेकिन अब फिर से इस वाहक को चालू करने के लिए निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। इसके लिए अगले वित्त वर्ष में भी इस वाहक के लिए आवंटन किया जाएगा ताकि यह पूरी तरह कर्ज मुक्त हो सके।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *