मंगलवार, जनवरी 21, 2020

ट्रम्प सरकार एच-4 वीसा जल्द करेगी खत्म, बड़ी संख्या में भारतीय प्रभावित

Must Read

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप)...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका ने वहां रह रहे विदेशियों के साथ आक्रामक रुख अपनाया है। ट्रम्प कंपनी ने एच-4 वीजा के तहत काम कर लोगों का वर्क परमिट रद्द करने का निर्णय लिया है।

ट्रम्प प्रशासन ने अदालत को बताया कि वह एच-4 विजाधारको का वर्क परमिट निरस्त करेंगे। इसका सबसे अधिक असर भारतीयों पर पड़ेगा क्योंकि अधिकतर भारतीय महिलाए इस वर्कपरमिट के तहत अमेरिका में कार्यरत है।

एच-4 वीजा को रद्द करने के लिए डोनाल्ड ट्रम्प ने तीन माह का अल्टीमेटम दिया है।

क्या है एच-4 वीजा

एच-4 वीजा को अमेरिका का सिटिजनशिप एंड इमीग्रेशन सेर्विसेज विभाग जारी करता है। यह अमेरिका में एच-1 वीजा के तहत कार्यरत लोगों के परिवार को दिया जाता है।

अमेरिकी विभाग ने शुक्रवार को अदालत में बताया कि वह एच-4 के अंतगत मिलने वाले कार्य करने के अनुमति पत्र के नियम को अगले तीन माह में समाप्त कर देगी।

इसके लिए सरकार जल्दी और सख्त कदम उठा रही है। विभाग ने अदालत से इस नियम को चुनौती वाली याचिकाओं पर सुनवाई न करने की दरख्वास्त की है।

इस नियम का विरोध कर रहे याचिकाकर्ताओं ने अदालत से जल्द निर्णय देने का अनुरोध किया है।
अमेरिकी कर्मचारियों के समूह ‘सेव जॉब यूएस’ नामक संस्था ने जल्द इस मसले पर निर्णय सुनाने का आग्रह किया है। फ़िलहाल अमेरिकी विभाग एच-1 बी वीजा नीति की जांच कर रहा है।

उनके अनुसार अमेरिकी कंपनी अपने देश के कर्मचारियों से नौकरी का हक़ छीन विदेशी कर्मचारियों को दे रही है। सेव जॉब यूएस ने अदालत से तत्काल फैसला लेने का आग्रह किया है।

ट्रम्प प्रशासन के इस निर्णय से अमेरिका में कार्य करने वाले कर्मचारियों में कमी आएगी।

 एच-4 वीजा नियम

एच-1 विजाधारकों के परिवारजनों को दिया जाने वाला एच-4 वीजा का नियम वर्ष 2015 में बराक ओबामा के कार्यकाल के दौरान बनाया गया था। साल 2015 से 2017 तक 1,26,853 आवेदनों को मंज़ूर किया गया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप) के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने...

झारखंड : नई सरकार के शपथ ग्रहण के 24 दिनों बाद भी नहीं हुआ मंत्रिमंडल विस्तार, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

झारखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण 29 दिसंबर को हुआ था। अबतक 24 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार...

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मनाया 48 वां राज्य दिवस

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मंगलवार को अलग-अलग अपना 48वां राज्य दिवस मनाया। इस मौके पर कई रंगा-रंग कार्यक्रम पेश किए गए। राष्ट्रपति रामनाथ...

महाराष्ट्र : भाजपा ने राकांपा के मंत्री के बयान पर आपत्ति जताई, बताया हिंदू विरोधी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अवध के बायन पर मंगलवार को कड़ी आपत्ति...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -