Sat. Nov 26th, 2022
    ऋषभ पंत

    एक छोटे से अंतराल में ऋषभ पंत ने भारतीय टेस्ट टीम में अपनी जगह पक्की कर ली है। हालांकि 34 वर्षीय विकेटकीपर रिद्धिमान साहा ने उन्हें अपने प्रतिद्वंद्वी के रूप में नहीं मानते। रिद्धिमान साहा जो प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में एक लंबी इंजरी के बाद वापसी करने को तैयार है का कहना है वह युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत की त्वरित सफलता के लिए बेहद खुश है।

    साहा ने ईएसपीएन क्रिकिंफो से कहा, ” मैं उन्हें अपने प्रतियोगी के रूप में नहीं देखता। जब से में पैदा हुआ है मैंने किसी को भी अपने प्रतियोगी  के रूप में नही देखा। ऐसा नहीं है कि मुझे उसे बेहतर करना है और मुझे मौका नहीं मिल रहा है क्योंकि वह वहां है। मैं काम यह है कि मैं अपनी क्षमता के साथ अच्छा प्रदर्शन करू। मैं ऐसा पहले कर चुका हूं और अब दोबारा अपने मौके का इंतजार कर रहा हूं।”

    21 वर्षीय की प्रशंसा करते हुए, जो अब प्रारूपों के लिए खुद के लिए एक मामला बना रहे हैं, साहा ने कहा कि पंत ने अपनी शुरुआत करने के बाद से ही खुद को साबित किया है।

    उन्होने कहा, ” वह बहुत अच्छे रहे है। उनके पास बहुक क्षमता है और जब से मैं उन्हें देख रहा हूं वह अच्छा करते आए है। अगर वह अच्छे नही होते, तो वह आईपीएल में भी इतने रन नही बना पाते और फिर उनकी टीम में गणना भी नही होती।”

    साहा को पिछले साल 25 मई को आईपीएल में सनराईजर्स हैदराबाद और कोलकाता नाईट राइडर्स के बीच में अंगूठे पर चोट आयी थी। जिसके बाद वह जुन में अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट मैच नही खेल पाए थे।

    बाद में, साहा को करियर के लिए खतरा पैदा हो गया, जिसके लिए उन्होंने मैनचेस्टर में अपने दाहिने कंधे की सर्जरी करवाई।

    इस बीच, पंत ने दोनो हाथो से मौके को फायदा उठाते हुए इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक लगाए। जिसमें 9 मैचो के बाद उनकी औसत 50 से ऊपर बनी हुई है।

    विशेषज्ञो का मानना है कि, पंत स्टंप के पीछे से उतने अच्छे नही है जितने अच्छे साहा थे और इसके लिए उन्हे और प्रगति करने की जरूरत है।

    अपनी भारत वापसी योजनाओं के बारे में पूछे जाने पर कि पंत ने 34 साल के जीवन को कठिन बना दिया है, साहा ने कहा कि वह केवल अपने प्रदर्शन को करने दे सकते हैं और टीम प्रबंधन के लिए चयन छोड़ सकते हैं।

    उन्होने कहा, ‘ मैं अभी राष्ट्रीय टीम में अपने कमबैक के बारे में नही सोच रहा हूं। क्योंकि अभी आईपीएल और विश्वकप है। भारत अब सीधे जुलाई में टेस्ट सीरीज खेलेगी तो इस बारे में तब सोचने में फायदा होगा।”

    उन्होने कहा, ” मेरा काम अच्छा करना है, चयन मेरे हाथ में नही है।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *