Mon. Apr 15th, 2024
    धोनी-पंत

    आप ऋषभ पंत का वर्णन कैसे करेंगे? एक बड़े हिटर के रूप में? एक फिनिशर? भविष्य का विकेट-कीपर? एक स्लेजर? या एक बेबीसिटर के रुप में?

    सिर्फ 21 साल की उम्र में, पंत ने कई महानुभावों को अपना बना लिया। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप उनका वर्णन कैसे करते हैं, आप इस तथ्य से इंकार नहीं कर सकते कि युवा खिलाड़ी में अत्यधिक क्षमता है।

    राय में विभाजन आ जाता है जब पंत की तकनीकी क्षमताओ की बात करे। वह रूढ़िवादी नहीं है, टेक्स्टबुक शॉट खेलने वाला लड़का है। इसके बजाय, वह वह है जो अपने अपरंपरागत स्ट्रोकप्ले के साथ विपक्ष को वास्तव में बुरी तरह से चोट पहुंचा सकता है।

    पंत अपने शानदार आशुरचना के साथ मैदान के चारो तरफ शॉर्ट खेल सकते है। वह विश्व के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजो को भी अपनी बल्लेबाजी के सामने नही टिकने देते है। और याद रखे, वह इस समय केवल 21 वर्ष के है औऱ दिन-प्रतिदिन अपने खेल में सुधार ला रहे है।

    आईपीएल में खेले अबतक दो मैचो में, पंत ने यह दिखा दिया है कि क्योकि भारतीय टीम उनको उनकी जरूरत है। उन्होने पहले मैच में मुंबई इंडियंस की टीम के खिलाफ 27 गेंदो में 78 रन की आतिशी पारी खेली, और यह उनकी क्षमताओ का सबसे अच्छा ट्रैलर था।

    युवा बल्लेबाज के लिए मैच में स्टेज पहले से ही सेट था: जिसमें उन्होने अपनी मैच विजेता अर्धशतकीय पारी में 7 छक्के- 7 चौके लगाए। और भारत को इस समय एक ऐसे ही खिलाड़ी की जरूरत है।

    पंत कितने अच्छे विकेटकीपर हैं?

    विकेटकीपिंग का बार भारत में बहुत ऊपर है (इसके बारे में आप जानते है क्यो)। पंत को अभी बहुत काम करना है अगर उनकी तुलना विकेटकीपिंग के भगवान से की जाए। लेकिन जब उन्होंने शेन वॉटसन को आईपीएल में स्टंप किया, तो उन्होंने क्षमता की झलक दिखाई है।

    उचित मार्गदर्शन में वह और भी बेहतर हो सकते है। एक कहावत है कि, ‘सिर्फ अच्छे होने का लक्ष्य मत रखो, व्यवसाय में सर्वश्रेष्ठ होने का लक्ष्य रखो’। और पंत निश्चित रूप से कर सकते हैं।

    क्या वह विश्वकप की टीम में जगह बना पाएंगे? 

    इस समय उनकी फॉर्म को देखकर लगता है, हां वह ऐसा कर पाएंगे। वह निश्चित रूप से उस टीम का हिस्सा होंगे जो टीम इंग्लैंड और वेल्स में होने वाले विश्वकप के लिए उड़ान भरेगी।

    प्रतिभा के विशाल पूल से चुनने के लिए, पंत निश्चित रूप से मलाईदार परत से संबंधित है। यह देखा जाना बाकी है कि क्या वह शुरू करेंगे, लेकिन अगर वह उसी तरह से खेलना जारी रखते है जिस तरह से वह खेल रहे है, तो विपक्षी गेंदबाजों को घबराहट होने का अच्छा कारण होगा।

    https://www.youtube.com/watch?v=hg2_R1N5xRQ&t=24s

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *