Sun. Jun 23rd, 2024
    Richa-Chadha

    ऋचा चड्ढा बहुत जल्द एक कोर्टरूम ड्रामा ‘सेक्शन 375’ में नजर आएंगी जो देश के कानून से जुड़े एक बहुत बड़े मुद्दे को उठाएगा। इसमें दिखाया जाएगा कि कैसे देश में कानून का दुरूपयोग किया जाता है और कैसे इस पर बातचीत करना जरूरी है।

    अभिनेत्री के मुताबिक, “कानून स्पष्ट है कि सबूत का बोझ अभियुक्त के पास है। इस मामले में, कानून मित्रवत है ताकि महिलाएं अपने यौन उत्पीड़न के मामलों की रिपोर्ट कर सकें। कोई भी कानून उतना ही मजबूत या कमजोर होता है जितना कि उसमें मौजूद समाज और उस सरकार का पक्ष।”

    “लिंग संबंधी अपराधों की रिपोर्टिंग से सम्बंधित भारत में असंख्य समस्याएं हैं। सांख्यिकीय चिंताजनक है कि बलात्कार के मामले अक्सर बलात्कार से जुड़े सामाजिक कलंक के कारण रिपोर्ट नहीं किए जाते हैं। बलात्कार का वर्णन करने के लिए ‘इज्जत लूटना’ और ‘नाक कटना’ जैसे वाक्यांश इस्तेमाल किए जाते हैं। इसे ठीक करने के लिए एक बहुआयामी दृष्टिकोण रखने की आवश्यकता है इसलिए हमें इसे कई स्तरों पर ठीक करना पड़ेगा। समाज को अधिक जागरूक होने की जरूरत है।”

    “व्यक्ति आश्चर्य करता है कि पुलिस एफआईआर दर्ज करने के लिए अनिच्छुक क्यों है। कोई कानून बिना संदर्भ के नहीं बना है, इसलिए निर्भया बलात्कार मामले के बाद, बलात्कार कानून के खंड में संशोधन किए गए थे। लेकिन बलात्कार कानून कितना सफल है- यह तय करने के लिए ये देखना जरूरी है कि किस हद तक इसका पालन किया जाता है और लागू किया जाता है। भारत में बलात्कार की सजा की दर लोकप्रिय धारणा के विपरीत काफी अधिक है। फिल्म कोई पक्ष नहीं लेती।”

    “यह कन्या भ्रूण हत्या से शुरू होता है, फिर वैवाहिक बलात्कार होते हैं जो कानूनी रूप से खड़े नहीं होते हैं। दहेज हत्या और सम्मान हत्याएं हैं। बलात्कार और उत्परिवर्तन की कहानियां भयावह और चिंताजनक हैं। ”

    भूषण कुमार, किशन कुमार, कुमार मंगत पाठक और अभिषेक पाठक द्वारा निर्मित ‘सेक्शन 375’ सितंबर में सिनेमाघरों में आएगी। इसमें अक्षय खन्ना भी अहम किरदार निभा रहे हैं।

     

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *