Mon. May 27th, 2024
    'उरी' और '72 ऑवर्स' पर बोले अभिनेता शिशिर शर्मा: दोनों फिल्में अलग हैं, तुलना ना करें

    अभिनेता शिशिर शर्मा का कहना है कि ‘उरी:द सर्जिकल स्ट्राइक‘ और उनकी आने वाली फिल्म ’72 ऑवर्स:मार्टर हू नेवर डाइड’ में कोई समानता नहीं है। ’72 ऑवर्स:मार्टर हू नेवर डाइड’, राइफलमैन जसवंत सिंह रावत के जीवन पर आधारित है, जिन्होंने चीन-भारतीय सीमा पर एक देवता का दर्जा प्राप्त किया था।

    दूसरी ओर ‘उरी’, पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के अंदर भारतीय सेना के 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक पर आधारित है।

    दोनों के बीच इतनी समानता वाले सवाल पर उन्होंने कहा-“मैंने दोनों फिल्मों में काम किया है इसलिए मैं कह सकता हूँ कि उरी एक सुनियोजित स्ट्राइक थी। ये फैसला किया गया था कि सर्जिकल स्ट्राइक होगी। मगर ’72 ऑवर्स’ में, यह पूर्व नियोजित नहीं था। फिल्म के केंद्रीय पात्र जसवंत सिंह रावत ने 72 घंटे तक संघर्ष किया, दोनों पूरी तरह से अलग फिल्में हैं।”

    आगे समझाते हुए उन्होंने कहा-“उनके पास 300 सैनिकों को मारने के लिए किसी से कोई निर्देश नहीं था जो कि एक बड़ी संख्या है, इसलिए मुझे नहीं लगता कि इस फिल्म और उरी के बीच कोई तुलना होनी चाहिए।”

    शिशिर फिल्मों के साथ साथ टेलीविज़न और वेब शोज में भी काम करते रहते हैं।

    जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने टीवी और फिल्मों में क्या बदलाव देखा है, उन्होंने कहा-“मैंने राम गोपाल वर्मा के साथ फिल्म ‘सत्या’ के साथ अपना फिल्मी करियर शुरू किया था। और टीवी करियर की शुरुआत महेश भट्ट के साथ शो ‘स्वाभिमान’ से की थी। टेलीविजन ने प्रतिगमन देखा है और यह हमेशा ऐसा ही रहने वाला है। इसमें किसी तरह का सुधार नहीं होने जा रहा है क्योंकि मुझे नहीं लगता कि वे टेलीविज़न देखने और उस के दर्शकों की संख्या के मामले में किसी तरह का सुधार चाहते हैं।”

    उन्होंने कहा कि अब छोटे फिल्म निर्माताओं के पास कंटेंट से प्रेरित फिल्में बनाने की ज्यादा अकल है।

    उन्होंने कहा, “लेकिन सिनेमा के संदर्भ में, अब जिस तरह का सिनेमा आ रहा है, वह जाहिर तौर पर अच्छा कंटेंट वाला सिनेमा है। वे दिन गए जब सितारे अड्डे पर राज करते थे। अब, यह कंटेंट से चलने वाला सिनेमा है जो अड्डे पर पूरी तरीके से राज़ करेगा।”

    “दर्शकों में भी बदलाव आया है जो बहुत जरूरी है। आप कितना भी अच्छे कंटेंट वाली फिल्में बना सकते हैं लेकिन अगर दर्शक सिनेमाघरों में नहीं आये तो कोई फायदा नहीं होगा।”

    “मैंने ‘राज़ी’, ‘दंगल’ और ‘मैरी कोम’ जैसी फिल्में की हैं। ये सभी प्रतिष्ठित फिल्में हैं। ‘उरी:द सर्जिकल स्ट्राइक’ और ’72 ऑवर्स:मार्टर हू नेवर डाइड’ उन प्रतिष्ठित फिल्मों की सूची में जाती हैं जो मैंने की है। मैं खुश हूँ कि मैं उन पांच फिल्मों का हिस्सा हूँ जो भारतीय सिनेमा के इतिहास में दर्ज़ होंगी।”

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *