Tue. Jul 23rd, 2024
    उमेश यादव

    उमेश यादव इस समय अपने क्रिकेट करियर के एक बहुत बेकार दौर से गुजर रहे है। भारत के लिए कुछ मैच खेलने के बाद, वह इंग्लैंड और वेल्स में होने वाले विश्वकप के लिए 15 सदस्यीय टीम में शामिल नही किए गए। इस आईपीएल संस्करण में भी उनका खराब प्रदर्शन जारी है, और वह रॉयल चैलेंजर्स की टीम का प्रतिनिधित्व कर रहे है।

    10 मैचो में तेज गेंदबाज ने केवल 8 विकेट लिए है प्रति ओवर 9.60 रन दिए है। इस सीजन में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ आया जब उन्होने 36 रन देकर 3 विकेट चटकाए थे। लेकिन एक बार इस सीजन में जब सीएसके को आखिरी ओवर में जीत के लिए 26 रन की जरुरत थी तो यादव ने 24 रन तक दे दिए थे और विपक्षी टीम के हाथ में मैच लगभग दे दिया था। काफी उम्मीद है, उदासीन शो के बाद वह आत्मविश्वास से भर नही पा रहे है।

    बारिश के कारण राजस्थान रॉयल्स (आरआर) के खिलाफ मैच ड्रॉ होने के बाद आऱसीबी की टीम आईपीएल से बाहर हो गई है। उमेश ने उस 5 ओवर के मैच में अपने एक ओवर में केवल 10 रन दिए। उन्होंने प्रतियोगिता के बाद बात की और कहा कि उनके सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, परिणाम दिखाई नहीं दे रहे हैं। नागपुर में जन्मे गेंदबाज ने स्वीकार किया कि उन्होंने पिछले कुछ महीनों में अपनी लय पाने के लिए संघर्ष किया है और इस अवधि में उनके लिए चीजें बुरी तरह से गलत हो गई हैं।

    यह विस्तृत करना मुश्किल है क्योंकि यह हर गेंदबाज का हिस्सा है

    उमेश ने कहा, “हर कोई कह रहा है कि मैं अच्छी गेंदबाजी नहीं कर रहा हूँ और ऐसा क्यों हो रहा है? क्योंकि पिछले दो वर्षों में मैंने घरेलू स्तर पर सभी प्रारूपों को खेलना जारी रखा, लेकिन उसके बाद, मैंने कई वनडे या टी 20 नहीं खेले हैं। मुझे केवल 2 से 3 गेम के लिए चुना गया है, फिर टीम से ड्रॉप कर दिया गया।”

    उमेश यादव ने न्यू इंडियन एकस्प्रेस से कहा, “हर कोई सोच रहा है कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं दे रहा हूं, लेकिन ऐसा नहीं है। यह हर तेज गेंदबाज के लिए होता है।”  इसके अलावा, तेज गेंदबाज ने यह भी कहा कि इस साल चीजें उनके लिए अच्छी नहीं होंगी और यही कारण है कि उन्होंने अपनी लय खो दी है।

    तेज गेंदबाज ने आगे कहा, ” इसे विस्तृत करना आसान नही होता है क्योंकि ऐसा हर गेंदबाज के साथ होता है। मुझे लगता है कि यह वह चरण है जिसमें 4 से 6 महीने तक मैं उतना सटीक नहीं हूं। कभी-कभी बहुत सी चीजें आपके सिर में चली जाती हैं। कभी-कभी, निश्चित रूप से आत्मविश्वास होता है, लेकिन दूसरी बार मुझे लगता है कि मैं इस साल अपना समय नहीं पा रहा हूं। इसलिए, इस वर्ष यह समस्या है। दरअसल, मेरी लय और सबकुछ मेरे रास्ते नहीं चल रहा है।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *