Mon. Jul 22nd, 2024
    vainkaiya naydu

    उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सभी राजनितिक दलों से अपील की है कि वो सर्वसम्मति से संसद और राज्य विधानसभाओं में महिला आरक्षण बिल को पास कराने की अपील की है। उपराष्ट्रपति नायडू ने बताया कि पंचायत और नगर पालिकाओं में महिलाओं के लिए सीटों का आरक्षण सफल साबित हुआ है।

    रविवार को महिला उद्यमिता प्लेटफार्म कॉन्क्लेव में सभा को संबोधित करते हुए और भारत में एनआईआईटीआई आयोग, महिला उद्यमिता प्लेटफार्म और संयुक्त राष्ट्र द्वारा आयोजित वीमेन ट्रांसफॉर्मिंग इण्डिया अवार्ड” 2018 प्रदान करते हुए कहा “वर्तमान में सकल घरेलू उत्पाद में भारतीय महिलाओं का योगदान 17 प्रतिशत, वैश्विक औसत 37 प्रतिशत से कम है। देश में केवल 27 प्रतिशत महिलाएं लाभप्रद रूप से नियोजित थी जो इस देश के संसद को चुनौती देती हैं। ऐसे में महिला उद्यमियों को सशक्त बनाने के एनआईटीआई आयोग के प्रयास विशेष रूप से सराहनीय है।”

    एनआईटीआई आयोग के सीईओ अमिताभ कांत, भारत में संयुक्त राष्ट्र निवासी समन्वयक यूरी अफनासेव, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

    उन्होंने कहा “कोई देश तब तक प्रगति नहीं कर सकता है अगर उसकी आधी आबादी को प्रगति पर समान भागीदार होने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाए।  उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत ने महिला उद्यमिता में अच्चा विकास दर्ज किया है।

    उपराष्ट्रपति ने कहा “महिलाओं के खिलाफ भेदभाव, अलग-अलग मजदूरी या कैरियर की प्रगति के लिए अवसरों के मामले में भेदभाव समाप्त होना है। निजी क्षेत्र समान अवसर नियोक्ता होने के कारण भेदभाव को समाप्त करने में एक प्रमुख भूमिका निभा सकता है।

    उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह सही समय है कि लोगों को लिंग समानता पर ध्यान देना चाहिए, महिलाओं को अपनी काबिलियत दिखाने के लिए हमें उनके लिए अवसर उपलब्ध कराने होंगे। उन्होंने महिला ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया अवार्ड्स 2018 को 13 महिलाओं को प्रदान किया जिन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों से विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्टता हासिल की।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *