Sun. Apr 14th, 2024
    UDDHAV THAKRE

    शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बुधवार को एक पुस्तक का हवाला देते हुए कहा कि केंद्र की फसल बीमा योजना राफेल फाइटर जेट सौदे से भी बड़ा घोटाला है।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लगातार विदेश दौरों पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि केवल भाषण और घोषणाएं जनता की मदद नहीं करेंगी, और मांग की कि भाजपा की अगुवाई वाली सरकार आगामी चुनावों के लिए गठबंधन की कोशिश करने से पहले किसानों की समस्या हल करे।

    प्रधानमंत्री मोदी ने प्राकृतिक आपदाओं, कीटों और बीमारियों के परिणामस्वरूप अधिसूचित फसलों के नुक्सान की स्थिति में किसानों को बीमा कवर और वित्तीय सहायता प्रदान करने के मुख्य उद्देश्य के साथ 2015 में प्रधान मंत्री बीमा योजना शुरू की थी।

    महाराष्ट्र के बीड जिले में सूखाग्रस्त मराठवाड़ा क्षेत्र के अपने दौरे के दौरान एक रैली को संबोधित करते हुए, ठाकरे ने पूछा कि बीमा कंपनियों को किश्तों का भुगतान करने के बाद कितने लोगों को सरकार की फसल बीमा योजना का लाभ मिला।

    “लोगों को 2 रुपये, 5 रुपये, 50 रुपये, 100 रुपये के चेक मिले हैं। मैं ‘मन की बात’ (मोदी के मासिक रेडियो कार्यक्रम) नहीं करता हूं, लेकिन ‘जन की बात’ में विश्वास करता हूं।” उद्धव ने आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना में हजारों करोड़ का घोटाला हुआ है।

    ठाकरे ने कहा, “हमें किस पर सवाल उठाना चाहिए? साईनाथ नाम का कोई व्यक्ति है, जो इस विषय का विशेषज्ञ है, जिसने एक किताब लिखी है। उसने कहा है कि फसल बीमा घोटाला राफेल जितना बड़ा घोटाला है।”

    विपक्षी कांग्रेस राफेल जेट सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाती रही है, सरकार ने इसका खंडन किया है। महाराष्ट्र और केंद्र में सरकार का हिस्सा होने के बावजूद शिवसेना नियमित रूप से भाजपा पर निशाना साध रही है। इसके नेताओं ने अक्सर कहा है कि वे अपने दम पर अगला चुनाव लड़ेंगे।

    शिवसेना और भाजपा ने गठबंधन में 2014 के लोकसभा चुनाव लड़े थे लेकिन विधानसभा चुनाव के समय अलग हो गए थे। शिवसेना बाद में राज्य सरकार में शामिल हुई।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *