बुधवार, जनवरी 22, 2020

उत्तर प्रदेश: मिड-डे मील में नमक के साथ परोसी रोटी, प्रधानाध्यापक निलंबित

Must Read

स्टीव स्मिथ का मानना है ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेल सकते हैं जोश फिलिप

स्टीव स्मिथ को लगता है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज जोश फिलिप में आस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेलने की काबिलियत...

सीएए पर बहस करने को तैयार अखिलेश यादव, गृहमंत्री के ‘डंके की चोट’ शब्द को लेकर कहा, यह राजनेता की भाषा नहीं हो सकती

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून (सीएए) और विकास...

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

मिर्जापुर, 23 अगस्त (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में जमालपुर ब्लॉक स्थित सिउर प्राथमिक विद्यालय में मिड-डे मील वितरण के दौरान छात्रों को नमक के साथ रोटी परोसी गई, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

हड़कंप मचने के बाद जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) प्रवीण कुमार तिवारी ने जांच के बाद कार्रवाई करते हुए प्रभारी प्रधानाध्यापक को निलंबित कर दिया। बीएसए प्रवीण तिवारी ने बताया, “सोशल साइट पर यह वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें दिखा कि यहां के छात्रों को मिड-डे मील के तहत सिर्फ नमक व रोटी परोसी गई जो कि नियमों का घोर उल्लंघन है। मामले की गंभीरता देखते हुए तुरंत जांच कराई गई, जिसमें वीडियो प्रमाणित पाया गया।”

सूचना मिलते ही शिक्षा विभाग हरकत में आया और खंड शिक्षा अधिकारी से तत्काल जांच कराई गई। जांच रिपोर्ट के आधार पर विद्यालय के प्रभारी शिक्षक को निलंबित कर दिया गया है। दरअसल सरकारी विद्यालयों में छात्रों को मिलने वाले मिड-डे मील में रोटी के साथ सब्जी या दाल देनी जरूरी होती है, मगर सिउर के विद्यालय में छात्रों को रोटी के साथ नमक परोस दिया गया, जिसकी चहुंओर आलोचना हो रही है।

उन्होंने बताया कि प्रधानाध्यापक को निलंबित करने के साथ ही सहायक अध्यापिका का वेतन अग्रिम आदेश तक रोक दिया है। बीएसए ने प्राथमिक विद्यालय सिउर की शिक्षामित्र को भी इस मामले में दोषी पाया, जिससे उनका भी मानदेय रोक दिया गया है।

यही नहीं, इसके बाद क्षेत्र के न्याय पंचायत समन्वयक को भी निलंबित कर दिया गया है। इसके अलावा खंड शिक्षा अधिकारी जमालपुर को भी बराबर का दोषी मानते हुए उनसे तीन दिनों के अंदर स्पष्टीकरण मांगा गया है। उन्हें चेतावनी दी गई कि अगर उनका जवाब संतोषजनक नहीं पाया गया तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बीएसए ने मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय जांच समिति गठित कर दी है, जिसे तीन दिनों के अंदर जांचकर रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

स्टीव स्मिथ का मानना है ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेल सकते हैं जोश फिलिप

स्टीव स्मिथ को लगता है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज जोश फिलिप में आस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेलने की काबिलियत...

सीएए पर बहस करने को तैयार अखिलेश यादव, गृहमंत्री के ‘डंके की चोट’ शब्द को लेकर कहा, यह राजनेता की भाषा नहीं हो सकती

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून (सीएए) और विकास को लेकर भाजपा के लोगों...

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न मिलने पर उनके पिता रामकिशन...

पाकिस्तान : पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने कहा, कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी इमरान सरकार

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार की आलोचना करते हुए...

चीन : कोरोना वायरस से हुए निमोनिया के 440 नए मामलों की पुष्टि

चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों ने कोरोना वायरस से होने वाले निमोनिया के 440 नए मामलों की पुष्टि होने की बुधवार को घोषणा की। देश में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -