मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

उत्तर कोरिया के प्रतिबंधों के उल्लंघन के प्रस्ताव पर रूस, चीन ने जताई आपत्ति

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के कूटनीतिज्ञों ने कहा कि “यूएन की सुरक्षा परिषद् समिति उत्तर कोरिया (North Korea) के खिलाफ प्रतिबंधों पर निगरानी रख रही थी और ऐलान किया कि पियोंगयांग ने प्रतिबंधों का उल्लंघन किया है लेकिन इसका चीन (China) और रूस (Russia) ने विरोध किया है।”

दो कूटनीतिज्ञों ने मंगलवार को कहा कि “रुसी और चीनियों ने आपत्ति की समयसीमा से पूर्व समिति को सूचित किया था। अमेरिका सही 25 अन्य देशों ने उत्तर कोरिया द्वारा यूएन के प्रतिबंधों का उल्लंघन करने की आलोचना की थी। पियोंगयांग ने वार्षिक तय सीमा 500000 बैरल से अधिक के पेट्रोलियम उत्पादों का आयात किया था।

शिकायत में प्रतिबन्ध समिति से  फैसला सुनाने को कहा गया है कि उत्तर कोरिया ने क्षमता से अधिक पेट्रोलियम उत्पादों का आयात कर उल्लंघन किया है और तत्काल ही डिलीवरी पर रोक लगाने की मांग की है।

अमेरिकी न्यायिक विभाग ने बीते माह कहा कि “उन्होंने उत्तर कोरिया के एक कार्गो जहाज को जब्त किया है और यह जहाज अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंधों का उल्लंघन करते हुए कोयले के शिपमेंट को ले जा रहा था।” इससे पूर्व यह कार्गो जहाज अप्रैल 2018 में इंडोनेशिया में जब्त किया गया था।

बयान में उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने अपने खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के प्रस्ताव को खारिज किया है। अमेरिका के मुताबिक जहाजों का परिबंधन उनकी सम्प्रभुता का उल्लंघन है।

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि “अमेरिका हमें अत्यधिक दबाव के साथ बांधे रखें की कोशिश कर रहा है और यह गैरकानूनी कार्रवाई 12 जून को उत्तर कोरिया और अमेरिका के संयुक्त बयान की मूल भावना का उल्लंघन करता है।

अमेरिका के नेता किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बीते वर्ष 12 जून को सिंगापुर में पहला शिखर सम्मेलन किया था। इस दौरान उन्होंने नए सम्बन्धो की स्थापना करने और कोरियाई पेनिनसुला में शान्ति स्थापित करने का संकल्प लिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -