दा इंडियन वायर » विदेश » आईएईए ने उत्तर कोरिया के परमाणु रिएक्टर में नए सिरे से गतिविधि के बारे में दी चेतावनी
विदेश समाचार

आईएईए ने उत्तर कोरिया के परमाणु रिएक्टर में नए सिरे से गतिविधि के बारे में दी चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी आईएईए ने कहा है कि परमाणु हथियारों से लैस उत्तर कोरिया ने अपने प्लूटोनियम-उत्पादक पुनर्प्रसंस्करण रिएक्टर को फिर से शुरू कर दिया है। यह एक संभावित संकेत है कि प्योंगयांग अपने प्रतिबंधित हथियार कार्यक्रम का विस्तार कर रहा है।

उत्तर कोरिया के मुख्य परमाणु परिसर योंगब्योन में 5 मेगावाट के रिएक्टर का विकास प्योंगयांग और वाशिंगटन के बीच परमाणु वार्ता के रुकने के साथ हुआ है।

उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन ने प्रतिबंधों से राहत के बदले में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ दूसरे शिखर सम्मेलन में योंगब्योन परिसर के हिस्से को नष्ट करने की पेशकश की थी लेकिन अन्य परमाणु साइटों को नहीं और इसलिए उनकी पेशकश को अस्वीकार कर दिया गया था।

उत्तर कोरिया अपने परमाणु हथियारों और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों को लेकर कई अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के तहत आता है। अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा कि, “जुलाई की शुरुआत से इस रिएक्टर के संचालन के अनुरूप ठंडे पानी के निर्वहन सहित संकेत मिले हैं।” शुक्रवार की रिपोर्ट में जोड़ा गया कि योंगब्योन रिएक्टर दिसंबर 2018 से तब तक निष्क्रिय था।

आईएईए निरीक्षकों को 2009 में उत्तर कोरिया से बाहर निकाल दिया गया था और तब से एजेंसी ने बाहर से इसकी निगरानी की है। प्योंगयांग प्लूटोनियम को रिएक्टर से पहले खर्च किए गए ईंधन से अलग करने के लिए पास की रेडियोकेमिकल प्रयोगशाला का भी उपयोग कर रहा है।

आईएईए ने कहा कि रिएक्टर और प्रयोगशाला संचालन के संकेत गंभीर रूप से परेशान करने वाले हैं। साथ ही संगठन ने कहा कि यह गतिविधियाँ संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का “स्पष्ट उल्लंघन” हैं। अमेरिकी विदेश विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वाशिंगटन इस रिपोर्ट से अवगत है और साझेदार देशों के साथ घनिष्ठ समन्वय कर रहा है।

अधिकारी ने कहा कि, “यह रिपोर्ट वार्ता और कूटनीति की तत्काल आवश्यकता को रेखांकित करती है ताकि हम कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण को प्राप्त कर सकें। हम डीपीआरके के साथ बातचीत करना जारी रख रहे हैं ताकि हम इस रिपोर्ट की गई गतिविधि और परमाणु निरस्त्रीकरण से संबंधित मुद्दों की पूरी श्रृंखला को संबोधित कर सकें।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!