Thu. Jun 20th, 2024
    डोनाल्ड ट्रम्प और किम जोंग उन उत्तर कोरिया

    उत्तर कोरिया के तरवर देखते हुए अमेरिका ने भी सख्त रुख अपना लिया है। अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र संघ से उत्तर कोरिया को भेजे जाने वाले तेल पर प्रतिबद्ध लगाने को कहा है। इसके साथ ही ट्रम्प चाहते हैं कि किम जोंग उन को हिट लिस्ट में डाला जाए।

    इसके साथ ही अमेरिका चाहता है कि उत्तरी कोरिया के जो श्रमिक दूसरे देशों में काम कर रहे हैं, उन्हें भुगतान मिलना बंद हो। साथ ही उत्तर कोरिया में आयात होने वाले कपडे पर भी प्रतिबन्ध लगना चाहिए।

    जाहिर है उत्तरी कोरिया लगातार युद्ध के आसार बना रहा है। हाल ही में उत्तर कोरिया ने एक हाइड्रोजन बम का परिक्षण किया था, जिससे विश्व का सबसे खतरनाक बम माना जाता है। इसके बाद जापान और आस पास के देशों में चिंता बढ़ गयी है।

    उत्तर कोरिया से निपटने के लिए अब अमेरिका ने दक्षिण कोरिया और जापान को मजबूत बनाना शुरू कर दिया है। हाल ही में डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि वे जापान और दक्षिण कोरिया को शक्तिशाली हथियार बेचेंगे जिससे उत्तर कोरिया पर दबाव बनाया जा सके।

    हांलांकि चीनी विशेषज्ञों का मानना है कि युद्ध इसका हल नहीं होगा। अगर किसी तरह का परमाणु युद्ध होता है, तो उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया में रह रहे करोड़ो लोग इससे प्रभावित होंगे। जापान तक भी इसकी आंच पहुँच सकती है। ऐसे में अमेरिका को संयम से काम लेना होगा और किम जोंग से बातचीत करनी होगी।

    चीन का मानना है कि किम जोंग को लगता है कि उसे अमेरिका से खतरा है। अपनी सुरक्षा के लिए किम परमाणु हथियार जमा कर रहा है। अगर अमेरिका और जापान किम को सुरक्षा का भरोसा देते हैं, तो किम शांत हो सकता है। लेकिन परिस्थिति को देखकर लग रहा है, कि ना तो किम जोंग बात करने के लिए राजी है और ना ही डोनाल्ड ट्रम्प ।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।