दा इंडियन वायर » विदेश » धमकी के बावजूद उत्तर कोरिया के साथ वार्ता बहाल होने की उम्मीद है: अमेरिका
विदेश

धमकी के बावजूद उत्तर कोरिया के साथ वार्ता बहाल होने की उम्मीद है: अमेरिका

डोनाल्ड ट्रम्प और किम जोंग उन

अमेरिका ने मंगलवार को उम्मीद जताई की कि उत्तर कोरिया के साथ परमाणु निरस्त्रीकरण पर बातचीत होगी। हालाँकि प्योंगयांग ने चेतावनी दी थी कि अमेरिका-दक्षिण कोरिया सैन्य अभ्यास बातचीत के बहाल होने की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है।

उत्तर कोरिया ने मंगलवार को संकेत दिया कि अगले महीने की ड्रिल पर परमाणु परिक्षण पर रोक के अपने निर्णय पर पुनर्विचार कर सकते हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने जून में कोरियाई विभाजन सीमा पर मुलाकात कर वार्ता पर सहमती जाहिर की थी।

फ़रवरी में हनोई में दुसरे शिखर सम्मेलन के आयोजन के बाद दोनों देशों के बीच बातचीत की प्रक्रिया ठप पड़ी हुई थी। इस बयान की प्रतिक्रिया पर अमेरिकी राज्य विभाग ने कहा कि “वियतनाम में फ़रवरी के सम्मेलन और 30 जून को ट्रम्प द्वारा उत्तर कोरिया की सरजमीं पर कदम रखने के दौरान ट्रम्प और किम की प्रतिबद्धताओं पर हम हमेशा कायम रहेंगे।”

राज्य विभाग की प्रवक्ता मॉर्गन ओर्टागुस ने पत्रकारों से कहा कि “हमारे नजरिये से, हमें उम्मीद है कि न उनकी सरकार और न ही हमारी सरकार कोई भी राष्ट्रपति ट्रूम और चेयरमैन किम के वियतनाम में प्रतिबद्धताओं में प्रगति को बाधित करने का प्रयास नहीं  करेगा।”

उन्होंने कहा कि “बिल्कुल, हम वार्ता को बहाल करने के लिए आगे की तरफ देख रहे हैं और हमें उम्मीद है बातचीत होगी ताकि हम इन प्रतिबद्धताओं पर प्रगति हासिल कर सके।”

उत्तर कोरिया के अज्ञात प्रवक्ता ने देश की अधिकारिक न्यूज़ एजेंसी केसीएनए ने कहा कि “उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच वर्किंग लेवल की बातचीत के आयोजन के लिए प्रयास जारी है और यह पंमुन्जोम में आला स्तर की बैठक के बाद सम्भव हुआ है। अमेरिका 19-2 डोंग मेंग संयुक्त सैन्य अभ्यास की योजना बना रहा है।”

अधिकारी ने कहा कि “अगर सैन्य अभ्यास होता है तो यह अमेरिका और उत्तर कोरिया की बातचीत को प्रभावित करेगा।”  प्योंगयांग का परमाणु और मिसाइल परिक्षण को रोकने का मकसद द्विपक्षीय संबंधों को बेहतर करना है। अमेरिया अपनी प्रतिबद्धताओं को त्याग रहा है, यह अमेरिका के साथ किये गए वादों को पूरा करने की हमारी बर्दाश्त को खत्म कर रहा है।”

बेहद भड़काऊ डील

दक्षिण कोरिया में 30000 अमेरिकी सैनिक तैनात है और उनकी 10 हजार सैनिक के साथ वार्षिक ड्रिल हमेशा उत्तर को व्यथित करती है। प्योंगयांग ने इस अभ्यास को आक्रमण की तयारी करार दिया है। सिंगापुर में मुलाकात के बाद ट्रम्प ने दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास को स्थगित कर दिया था।

मार्च में छोटे स्तर का एक सैन्य अभ्यास किया था। अमेरिका ने उत्तर कोरिया के समक्ष प्रतिबंधो से निजात पाने के लिए पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण करने का आग्रह किया था। दुसरे शिखर सम्मेलन में दोनों पक्ष किसी समझौते पर पंहुचने में नाकाम रहे थे और बगैर किसी संयुक्त बयान के इस सम्मेलन को खत्म कर दिया गया था।

About the author

कविता

कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!