मंगलवार, सितम्बर 17, 2019

ईवीएम के साथ 50 फीसदी वीवीपैट पर्चियों के मिलान की मांग वाली याचिका खारिज

Must Read

सोलोमन द्वीप ने थाईवान के बदले चीन संग राजनयिक संबंध स्थापित किए : ह्वा छुनइंग

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा छुनइंग ने 16 सितंबर को इस बात पर संवाददाताओं...

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक आयोजित

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। 2019 अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक 16 सितंबर को चीन के शानतोंग प्रांत के...

बिहार के एक गांव में भगवान की तरह पूजे जाते हैं मोदी

कटिहार, 17 सितंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 69वें जन्मदिन पर देश और विदेश से शुभकामना संदेश तो...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 7 मई (आईएएनएस)| विपक्ष को झटका देते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने इस साल हो रहे लोकसभा चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के साथ 50 प्रतिशत वोटर-वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) पर्चियों के मिलान की मांग वाली याचिका खारिज कर दी।

विपक्ष ने 50 प्रतिशत वीवीपैट पर्चियों का ईवीएम से मिलान कराने की मांग करते हुए इस मामले में पुनर्विचार याचिका दायर की थी।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गगोई ने कहा, “हम अपने आदेश में बदलाव करने के लिए तैयार नहीं हैं।”

विपक्षी नेताओं की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने अपनी दलील में कहा कि नेताओं की मांग व्यवहारिक है क्योंकि यह उचित और सार्थक है।

सिंघवी ने कहा कि अदालत को गुमराह किया जा रहा है।

अदालत ने सिंघवी की दलील पर विचार करने से मना करते हुए कहा, “हम अपने पिछले आदेश को बदलने के इच्छुक नहीं हैं।”

मंगलवार को शीर्ष अदालत की कार्यवाही में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू, आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सांसद डी.राजा और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला शामिल हुए।

शीर्ष अदालत ने आठ अप्रैल को चुनाव आयोग को ईवीएम के साथ वीवीपैट की पर्चियों का मिलान हर विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र से बढ़ाकर पांच मतदान केंद्र करने का आदेश दिया था।

नायडू की अगुवाई में विपक्षी नेताओं ने अदालत को बताया, “एक से बढ़ाकर पांच मतदान केंद्र कर देना पर्याप्त नहीं है और इससे न्यायालय से अपेक्षित संतोषप्रद नतीजे प्राप्त नहीं होंगे।”

अदालत का इससे पहले दिया गया फैसला भी विपक्षी पार्टियों के लिए एक झटका था क्योंकि अदालत ने तब वीवीपैट का ईवीएम से मिलान कराने की संख्या में केवल 1.99 प्रतिशत की ही वृद्धि की थी। यानि कि मतगणना के दौरान परिणामों के सत्यापन के लिए कुल 10.35 लाख ईवीएम में से केवल 20,625 के मिलान का निर्देश दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सोलोमन द्वीप ने थाईवान के बदले चीन संग राजनयिक संबंध स्थापित किए : ह्वा छुनइंग

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा छुनइंग ने 16 सितंबर को इस बात पर संवाददाताओं...

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक आयोजित

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। 2019 अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक 16 सितंबर को चीन के शानतोंग प्रांत के चिनान शहर में आयोजित हुई।...

बिहार के एक गांव में भगवान की तरह पूजे जाते हैं मोदी

कटिहार, 17 सितंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 69वें जन्मदिन पर देश और विदेश से शुभकामना संदेश तो मिल ही रहे हैं, उनके...

मोदी के जन्मदिन के शोर में दब गई सरदार सरोवर प्रभावितों की आवाज : मेधा

भोपाल, 17 सितंबर (आईएएनएस)। नर्मदा बचाओ आंदोलन की अगुवा मेधा पाटकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके समर्थकों पर बड़ा हमला बोला है, उनका...

सऊदी में तेल संयंत्रों पर हमले का भारतीय अर्थव्यस्था पर पड़ सकता है असर

नई दिल्ली, 17 सितंबर (आईएएनएस)। यमन के ईरान समर्थित विद्रोही समूह हौती ने शनिवार को सऊदी अरब के अबक्विक संयंत्र और खुरियास तेल क्षेत्र...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -