शुक्रवार, नवम्बर 15, 2019

ईवीएम के साथ 50 फीसदी वीवीपैट पर्चियों के मिलान की मांग वाली याचिका खारिज

Must Read

कुवैत के अमीर ने स्वीकार किया कुवैत सरकार का इस्तीफा, नई सरकार के गठन तक रहेंगे कार्यवाहक

कुवैती अमीर शेख सबा अल-अहमद अल-जबर अल-सबा ने गुरुवार को प्रधानमंत्री द्वारा सौंपी गई सरकार का इस्तीफा स्वीकार कर...

दीदी के चाहने वालों की दुआओं ने किया असर, लता मंगेशकर की स्थिति में सुधार

स्वर कोकिला लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ होने के चलते सोमवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया...

भोपाल गैस पीड़ितों के हक के लड़ाई लड़ने वाले अब्दुल जब्बार का निधन

भोपाल गैस पीड़ितों के हक की लड़ाई को राजनीतिक दलों और तमाम गैर सरकारी संगठनों ने भले ही स्वार्थ...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 7 मई (आईएएनएस)| विपक्ष को झटका देते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने इस साल हो रहे लोकसभा चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के साथ 50 प्रतिशत वोटर-वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) पर्चियों के मिलान की मांग वाली याचिका खारिज कर दी।

विपक्ष ने 50 प्रतिशत वीवीपैट पर्चियों का ईवीएम से मिलान कराने की मांग करते हुए इस मामले में पुनर्विचार याचिका दायर की थी।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गगोई ने कहा, “हम अपने आदेश में बदलाव करने के लिए तैयार नहीं हैं।”

विपक्षी नेताओं की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने अपनी दलील में कहा कि नेताओं की मांग व्यवहारिक है क्योंकि यह उचित और सार्थक है।

सिंघवी ने कहा कि अदालत को गुमराह किया जा रहा है।

अदालत ने सिंघवी की दलील पर विचार करने से मना करते हुए कहा, “हम अपने पिछले आदेश को बदलने के इच्छुक नहीं हैं।”

मंगलवार को शीर्ष अदालत की कार्यवाही में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू, आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सांसद डी.राजा और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला शामिल हुए।

शीर्ष अदालत ने आठ अप्रैल को चुनाव आयोग को ईवीएम के साथ वीवीपैट की पर्चियों का मिलान हर विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र से बढ़ाकर पांच मतदान केंद्र करने का आदेश दिया था।

नायडू की अगुवाई में विपक्षी नेताओं ने अदालत को बताया, “एक से बढ़ाकर पांच मतदान केंद्र कर देना पर्याप्त नहीं है और इससे न्यायालय से अपेक्षित संतोषप्रद नतीजे प्राप्त नहीं होंगे।”

अदालत का इससे पहले दिया गया फैसला भी विपक्षी पार्टियों के लिए एक झटका था क्योंकि अदालत ने तब वीवीपैट का ईवीएम से मिलान कराने की संख्या में केवल 1.99 प्रतिशत की ही वृद्धि की थी। यानि कि मतगणना के दौरान परिणामों के सत्यापन के लिए कुल 10.35 लाख ईवीएम में से केवल 20,625 के मिलान का निर्देश दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

कुवैत के अमीर ने स्वीकार किया कुवैत सरकार का इस्तीफा, नई सरकार के गठन तक रहेंगे कार्यवाहक

कुवैती अमीर शेख सबा अल-अहमद अल-जबर अल-सबा ने गुरुवार को प्रधानमंत्री द्वारा सौंपी गई सरकार का इस्तीफा स्वीकार कर...

दीदी के चाहने वालों की दुआओं ने किया असर, लता मंगेशकर की स्थिति में सुधार

स्वर कोकिला लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ होने के चलते सोमवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और अब स्थिति में...

भोपाल गैस पीड़ितों के हक के लड़ाई लड़ने वाले अब्दुल जब्बार का निधन

भोपाल गैस पीड़ितों के हक की लड़ाई को राजनीतिक दलों और तमाम गैर सरकारी संगठनों ने भले ही स्वार्थ के चाहे जिस चश्मे से...

जमैका के विश्व प्रसिद्ध धावक योहान ब्लेक भारत में प्रमोट करेंगे रोड़ सेफ्टी

वर्ल्ड एवं ओलम्पिक 100 मीटर और 200 मीटर चैम्पियन जमैका के योहान ब्लेक रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज को प्रोमोट करने भारत आएंगे। इस सीरीज...

वायु गुणवत्ता रैंकिंग के आधार पर शुक्रवार को दिल्ली रहा विश्व का सर्वाधिक प्रदूषित शहर

विश्व वायु गुणवत्ता सूचकांक रैंकिंग पर एयर विजुअल के आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली ने शुक्रवार को 527 एआईक्यू के साथ दुनिया का सबसे प्रदूषित...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -