मंगलवार, अप्रैल 7, 2020

पश्चिमी आर्थिक जंग से भिड़ने के लिए ईरान-सीरिया ने किया आर्थिक समझौता: राष्ट्रपति असद

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद ने मंगलवार को करीबी दोस्त ईरान के साथ हुए आर्थिक समझौते के बाबत बताया था। उन्होंने कहा कि इस आर्थिक युद्ध को पश्चिमी देशों ने उभारा है। इससे एक दिन पूर्व ही ईरान और सीरिया ने कहा कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये थे, इसमें लम्बे अंतराल के लिए आर्थिक सहयोग का समझौता भी शामिल था।

बशर अल असद ने कहा कि “यह समझौता ईरानी और सीरियाई अर्थव्यवस्था की बचने में मदद करेगा, जो पश्चिमी देशों ने उनके खिलाफ आर्थिक जंग शुरू की है। उन्होंने कहा कि दोनों राष्ट्रों को कमजोर करने वाले देशों को चुनौती देने के लिए आम प्रयासों में तीव्रता लानी होगी।

अमेरिका ने ईरान पर सभी आर्थिक प्रतिबन्ध थोप दिए हैं, जबकि अमेरिका और यूरोपीय संघ के कुछ देशों ने डमस्कस और सीरिया के कारोबारियों पर प्रतिबन्ध लगा रखा है। सोमवार को 11 समझौतों और एमओयू पर दस्तखत किये गए हैं, इसमें अर्थव्यवस्था, संस्कृति, शिक्षा, इंफ्रास्ट्रक्चर, निवेश और हाउसिंग शामिल है।

इन समझौते पर ईरान के पहले उपराष्ट्रपति इशक जहाँगीरी की सीरिया की राजधानी की यात्रा के दौरान हस्ताक्षर किये गए थे। ईरान और सीरिया ने अगस्त में सैन्य सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। तेहरान ने डमस्कस को तेल डिलीवरी और अन्य विकादों के दौरान आर्थिक तौर पर सहायता की थी।

रूस और ईरान की मदद से सीरिया ने साल 2015 से जिहादियों और विद्रोहियों के खिलाफ सफलता हासिल की है और अब सरकार का दो-तिहाई इलाके पर नियंत्रण है। इस गृह युद्ध में 360000 लोगों की मृत्यु हुआ है और लाखों लोगों को विस्थापित होना पड़ा था। सरकार विरोधी अभियान को निर्ममता से कुचलने के बाद साल 2011 में यह विद्रोह शुरू हुआ था। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक सीरिया के युद्ध में 400 अरब डॉलर की तबाही हुई है। इस युद्ध से सीरिया की अर्थव्यवस्था और ढांचागत इमारतों पर भी प्रभाव पड़ा है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -