शनिवार, अक्टूबर 19, 2019

ईरान ने अमेरिका को दी चेतावनी, दोबारा सीमा उल्लंघन हुआ तो कड़ी प्रतिक्रिया मिलेगी: तस्नीम

Must Read

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

ईरान ने अमेरिका को सीमा उल्लंघन की चेतावनी दी है और संसद के अध्यक्ष अली लारीजानी ने सख्त प्रतिक्रिया की धमकी दी है। ईरान ने बीते हफ्ते अमेरिकी निगरानी ड्रोन को मार गिराया था, जिससे दोनों देशों के बीच तनाव काफी बढ़ गया है।

लारीजानी ने बुधवार को कहा कि “उनके ड्रोन को मार गिरना उनके लिए सीमा पर आक्रमक रवैये को दरकिनार करना अच्छा अनुभव रहा होगा। अगर वह सीमा उल्लंघन की गलती दोबारा करते हैं तो ईरान की प्रतिक्रिया बेहद सख्त होगी।”

ईरान ने कहा कि “अमेरिका का मानवरहित ड्रोन उनके हवाई क्षेत्र में था, जिससे वांशिगटन ने इंकार किया है। ट्रम्प ने प्रतिकारी हमले का आदेश दिया था लेकिन इसे अंतिम समय में रद्द कर दिया था। इसके बाद कई लोगो की हत्या हुई थी। दोनों पक्षों के बीच काफी तनाव बढ़ चुका है।

ट्रम्प ने कहा कि “ईरान और अमेरिका के बीच कोई भी जंग तीव्र हो सकती है लेकिन उन्होंने दोहराया कि वह सैन्य संघर्ष को दरकिनार करना चाहते हैं जबकि तेहरान के नेताओं पर हमला बोला है। ईरान में न्यूयॉर्क स्थित मानवधिकार केंद्र ने कहा कि “करीब 116 ईरानी मानवधिकार कार्यकर्ता और वैश्विक समूहों ने दो दुश्मनो को सैन्य संघर्ष के परिणाम तबाही होने की चेतावनी दी है।”

कार्यकर्ताओं, वकीलों और पत्रकारों द्वारा दस्तखत किये गए बयान के मुताबिक, “हमें भी भय है कि ईरान के खिलाफ सैन्य कार्रवाई लाखो आम नागरिको के लिए विनाशकारी हो सकते हैं और यह पड़ोसी मुल्कों में हिंसक सचिवीय नागरिक संघर्ष को ला सकता है।

तेहरान और वांशिगटन के बीच साल 2015 में हुई परमाणु संधि को बीते वर्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने तोड़ दिया था और प्रतिबंधों को उन पर थोप दिया था। वांशिगटन के बढ़ते प्रतिबंधों के प्रतिकार में तेहरान ने यूरेनियम के उत्पादन में वृद्धि का ऐलान किया था।

ईरान ने बुधवार को समयसीमा को बढ़ा दिया था और यूरोपीय संघ से इस संधि को बचाने का आग्रह किया था। डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खमेनेई और अन्य आला अधिकारीयों पर नाते प्रतिबन्ध थोप दिए थे। ईरान ने हालिता प्रतिबंधों को ख़ारिज करते हुए बेवकूफी कदम करार दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति के बाद हुए ब्रेक्जिट समझौते...

आजम को परेशान किया जा रहा, ताकि हमारी सरकार न बने : अखिलेश

रामपुर, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यहां शनिवार को कहा कि आजम खां को इसलिए परेशान किया...

उप्र : स्नातक में दाखिला निरस्त होने पर छात्राएं अनशन पर बैठीं

बांदा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में बांदा जिला मुख्यालय के पंडित जवाहरलाल नेहरू डिग्री कॉलेज में स्नातक कक्षा का दखिला निरस्त होने से...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -