Sat. Apr 20th, 2024
    हसन रूहानी

    ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने शनिवार को कहा कि ईरान को अमेरिकी प्रतिबंधो विरोध करना होगा और यह तेल और अन्य उत्पादों के निर्यात को जारी रखकर ही संभव है। ईरानी टीवी पर हसन रूहानी के बयान को लाइव प्रसारित किया गया था।

    एक दिन पूर्व ही वांशिगटन ने ईरान को यूरेनियम का उत्पादन और न्यूक्लियर पावर प्लांट के विस्तार को बंद करने के लिए मज़बूर किया था। अमेरिका ने बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को रोके और क्षेत्रीय ताकत को कुचलने के लिए अभियान को तेज़ कर दिया है।

    हसन रूहानी ने कहा कि “अमेरिका हमारे विदेशी भण्डार को कम करने की कोशिश कर रहा है इसलिए हमें अपनी नोटों की आय को बढ़ाना होगा और मुद्रा के व्यय में कटौती करनी होगी। बीते वर्ष हमने 43 अरब का गैर तेल उत्पादों का निर्यात किया था और हमारे तेल के खिलाफ अमेरिका की योजना का विरोध किया था।”

    शुक्रवार को हसन रूहानी ने अमेरिकी प्रतिबंधो के बावजूद ईरानी तेल खरीदने के लिए राज़ी देश के बाबत सीधे तौर पर जानकारी साझा नहीं की है। बीते हफ्ते अमेरिका ने ऐलान किया कि वह ईरानी तेल खरीदने की आठ देशों को दी गयी रिआयत को खत्म कर रहे हैं।

    अमेरिका ने नवंबर में आठ देशों को ईरान से तेल खरीदनेके लिए छह माह की रिआयत दी थी जो 1 मई को खत्म हो गयी है। इस छूट को आगे बढ़ाने का अमेरिका का कोई इरादा नहीं है। ईरान की सरकार पर दबाव को बढ़ाने के लिए अमेरिका ईरानी तेल की खरीद को शून्य करना चाहते हैं।

    हाल ही में अमेरिका ने ईरान की रेवोलूशनरी गार्ड्स को विदेश आतंकी संगठन घोषित कर दिया था जिसके प्रतिकार में ईरान ने भी अमेरिका की सेना को मध्य पूर्व में आतंकी का दर्जा दिया था। अमेरिका ने साल 2015 में हुई ईरान के साथ परमाणु संधि को बीते वर्ष तोड़ दिया था।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *