मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

ईरान के साथ बातचीत की कोशिश नहीं कर रहा है अमेरिका: डोनाल्ड ट्रम्प

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को स्पष्ट किया कि अमेरिका ने ईरान से बातचीत के लिए पहल नहीं की है। उन्होंने कहा कि “तेहरान को अमेरिका से संपर्क साधना होगा जब भी वह वार्ता करना चाहते है। फर्जी खबर में आमतौर पर गलत बयान होते हैं। उनके पास कोई जानकारी नहीं है कि अमेरिका ईरान के साथ बातचीत के लिए पहल कर रहा है। यह एक गलत रिपोर्ट नहीं।”

उन्होंने कहा कि “ईरान जब भी तैयार हो वह हमें कॉल कर सकता है। इस दौरान उनकी अर्थव्यवस्था की हालत बिगड़ती जाएगी। ईरान की आवाम के लिए बेहद दुखी हूँ।” एक दिन पूर्व डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान को धमकी दी थी कि “अगर वह मुल्क लड़ना चाहता है तो यह ईरान का औपचारिक तौर पर अंत होगा।”

अमेरिका और ईरान के संबंधों में तेहरान के परमाणु परियोजनाओं के कारण तनाव काफी बढ़ गया है। अमेरिका ने खाड़ी में एक युद्धपोत और बमवर्षक की तैनाती को मंज़ूरी दी थी। ताकि ईरान के खतरे की प्रतिक्रिया दी जा सके। वांशिगटन ने पर्शियन गल्फ में अत्याधिक सैनिको की तैनाती कर दी है।

अमेरिका के अधिकारीयों ने उन तस्वीरों की प्रतिक्रिया पर सैनिको की तैनाती का निर्णय लिया है जिसके तहत ईरान छोटी पारम्परिक नावों में मिसाइलो को लोड कर रहा है। खाड़ी में तनाव के साथ ही ईरान ने अमेरिका के साथ बातचीत करने से इंकार कर दिया है और कहा कि “वांशिगटन के क्षेत्र में अत्याधिक सैनिको की तैनाती के बावजूद हम अधिकतम संयमता का प्रदर्शन कर रहे हैं।”

बीते हफ्ते ईरान के विदेश म्नत्री जावेद जरीफ ने जापान, भारत और तजाकिस्तान की यात्रा की थी। ईरान ने अपने प्रमुख ग्राहकों को तेल बेचना जारी रखने का संकल्प लिया है। जावेद जरीफ ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से बयानबाजी करने की बजाये कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -