Fri. Jun 14th, 2024
    अयोध्या में दिवाली मनाएंगे योगी आदित्यनाथ

    उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 18 अक्टूबर को छोटी दिवाली के पर्व को पुरे आयोध्या के साथ मनाएंगे। योगी आदित्यनाथ छोटी दिवाली के पर्व पर भगवान् राम के के आयोध्या वापसी के इस पर्व को हर्षोउल्लास से मनाएंगे। भगवान राम की अयोध्या वापसी पर घाटों-मन्दिरों और अन्य धार्मिक भवनों की भव्य सजावट होगी। और सरयू पर आरती भी होगी।

    अयोध्या में भवनों और मंदिरो की सजावट के अलावा राम-भारत मिलाप स्थल से लेकर रामकथा पार्क तक निकलने वाली पारम्परिक शोभायात्रा की अगुवानी खुद सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे। पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने लखनऊ में और खुद योगी आदित्यनाथ ने कानपूर में इसकी पुष्टि की। यह पहला मौका है जब कोई सीएम दिवाली मनाने के लिए अयोध्या में रहेगा।

    इस कार्यक्रम की रूपरेखा एक हफ्ते पहले अधिकारियो ने अयोध्या जाकर बनाई थी। प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार योगी करीब 4 घंटे अयोध्या में रहेंगे। वहां 108 जरूरतमंद बच्चों को दीपावली का उपहार देंगे। विदेशी कलाकारों से रामलीला का मंचन करवाने की भी योजना है। कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ मंत्रिमंडल के वरिष्ठ सदस्य होंगे और साथ ही राज्य के राजयपाल राम नाइक भी इस मौके पर साथ होंगे।

    सीएम आदित्यनाथ ने गोरखपुर में कहा कि जब भगवान् श्री राम वनवास काटकर जब अयोध्या से लौटे थे तो नगरवासियो ने उनके आगमन पर पुरे शहर को जगमग कर दिया था। इस साल प्रदेश सरकार उसी तरह शहर को सजायेगी और बड़ा कार्यक्रम आयोजित करवाएगी।

     

    करीब 133 करोड़ की योजनाओ का शुभारम्भ करेंगे

    सीएम योगी दीपावली पर्व पर अयोध्या में करीब 133 करोड़ रूपये की योजना का शिलान्यास करेंगे। इसमें गुप्तारघाट-किलाघाट का विस्तारीकरण और सुंदरीकरण, पंचकोसी परिक्रमा मार्ग, राम की पौड़ी, अरबन हाट, रामकथा संग्राहलय, पार्किंग एवं पर्यटन सुविधा केंद्र जैसी योजनाओ का शिलान्यास शामिल है। योजनाओ के लिए फंड केंद्र सर्कार ने स्वदेश दर्शन स्कीम के तहत दिया है। इस आयोजन को धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की कड़ी के रूप में भी प्रस्तुत किया जा रहा है।

    अयोध्या मामले का दम बना रहेगा

    राममंदिर निर्माण को लेकर बीजेपी भले ही सुप्रीम कोर्ट का हवाला दे रही है लेकिन प्रतीकात्मक अभियानों से साफ़ पता चल रहा है, कि बीजेपी अयोध्या के राम मंदिर के मुद्दे को अपने एजेंडे में शामिल रखना चाहती है। इस मुद्दे को शायद बीजेपी 2019 में आने वाले लोकसभा के चुनाव में करेगी। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री की मौजूदगी समर्थको में एक सियासी सन्देश के लिए पर्याप्त होगी। वही विकास योजनाओ के शिलान्यासों से सरकार और पार्टी ये कह सकेगी कि वे अयोध्या की सूरत बदलना चाहती है। पिछले साल भी पीएम मोदी ने दशहरे पर लखनऊ में ऐशबाग में रामलीला में राम दरबार की आरती की थी। वह पहली बार ऐसा हुआ था कि किसी पीएम ने दशहरा मनाया था। इसका असर 2017 के यूपी के विधानसभा चुनाव में दिखा था।