Sat. Apr 20th, 2024

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने म‍िशन गगनयान की सफलता के ल‍िए जरूरी कदम बढ़ाया है। इसरो ने बुधवार को अपने गगनयान कार्यक्रम के लिए लिक्विड प्रोपेलेंट इंजन विकास का तीसरा लंबी अवधि का सफल उष्‍ण परीक्षण किया। गगनयान अंतरिक्ष भेजे जाने वाला देश का पहला मानवयुक्त मिशन है।

    इसरो ने एक बयान में कहा कि यह टेस्‍ट गगनयान कार्यक्रम के लिए इंजन योग्यता जरूरत के तहत जीएसएलवी एमके 3 यान के एल 110 ल‍िक्‍व‍िड लेवल के लिए किया गया। इसमें कहा गया है कि इसरो प्रोपल्शन कॉम्प्लेक्स (आईपीआरसी), महेंद्रगिरि, तमिलनाडु के परीक्षण केंद्र में इंजन को 240 सेकंड के लिए प्रक्षेपित किया गया।

    बयान के अनुसार इस दौरान इंजन ने टेस्‍ट के मकसद को पूरा किया और टेस्‍ट की पूरी अवधि के दौरान इंजन मानक अनुमानों के अनुरूप थे। गगनयान कार्यक्रम का मकसद किसी भारतीय प्रक्षेपण यान से मानव को पृथ्वी की निचली कक्षा में भेजने और उन्हें वापस धरती पर लाने की क्षमता द‍िखाना है।

    केंद्रीय अंतरिक्ष मंत्री जितेंद्र सिंह ने इस साल फरवरी में कहा था कि पहला मानव रहित मिशन दिसंबर 2021 में और दूसरा मानव रहित मिशन 2022-23 में और उसके बाद मानव सहित अंतरिक्ष यान की योजना है।

    गगनयान अंतरिक्ष भेजे जाने वाला भारत का पहला मानवयुक्त मिशन है। इसका मकसद किसी भारतीय प्रक्षेपण यान से मानव को पृथ्वी की निचली कक्षा में भेजने और उन्हें वापस लाने की क्षमता दिखाना है। गगनयान मिशन की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2018 को लालकिले से की थी। मिशन पर करीब 10 हजार करोड़ रुपए का खर्च आएगा। इसके लिए 2018 में ही यूनियन कैबिनेट ने मंजूरी दे दी थी।

    इसरो ने रूस की अंतरिक्ष एजेंसी ग्लावकॉस्मोस से समझौता किया है। एक ग्रुप कैप्टन और तीन विंग कमांडर्स समेत चार भारतीय वायु सेना अधिकारियों को मिशन के लिए चुना गया है। ये रूस के ज्वोज्दनी गोरोडोक शहर में अपनी एक साल की ट्रेनिंग पूरी कर चुके हैं। साथ ही दो फ्लाइट सर्जन रूस और फ्रांस में ट्रेनिंग ले रहे हैं। इसरो के वैज्ञानिकों ने बताया था कि रूस में ट्रेनिंग लेने के बाद इन चारों गगननॉट्स को बेंगलुरु में गगनयान मॉड्यूल की ट्रेनिंग दी जाएगी। इस मॉड्यूल को इसरो ने खुद बनाया है। इसमें किसी भी अन्य देश की मदद नहीं ली गई है।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *