करतारपुर पर इमरान खान ने कहा, हमारे पास सिखों का मक्का व मदीना है

Must Read

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

पाकिस्तान के वजीर ऐ आजम इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान के पास सिख समुदाय का मक्का व मदीना मौजूद है और वह अल्पसंख्यक समुदाय के लिए इस इलाके को खोल रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान वर्ल्ड गोवेर्मेंट समिट के 7 वें संस्करण के लिए यूएई की यात्रा पर है।

रविवार को इमरान खान ने कहा कि “हमारे पास सिखों का मक्का व मदीना है और हम यह सिखों के लिए खोलने जा रहे हैं।” मक्का और मदीना इस्लाम के दो पाक स्थल है। उन्होंने कहा कि हमने नयी वीजा नीति का ऐलान किया है। पाकिस्तान के पास ऐसे 70 देश है जहां के यात्री एयरपोर्ट पर आकर अपना वीजा ले सकता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में पर्यटन की बेहतर क्षमता है हालाँकि पाक में पर्यटन संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में 1000 किलोमीटर तटीय रेखा है। साथ ही उन्होंने कहा कि पकिस्तान में प्राचीन ऐतिहासिक स्मारक है, जो शायद दुनिया में सबसे पुराने हो। उन्होंने कहा कि “हमारी सिंधु घाटी सभ्यता है, जो 5000 साल पुरानी है। हमारे पास विश्व का सबसे पुराना शहर पेशावर है, जो 2500 साल पुराना है। लाहौर और मुल्तान प्राचीन  शहर हैं।”

उन्होंने कहा कि हम देश को पर्यटन के लिए खोल रहे हैं। करतारपुर साहिब की नीव हाल ही में भरता और पाकिस्तान दोनों ने रखी है। इस गलियारे का प्रस्ताव भारत ने 20 साल पहले दिया था। करतारपुर साहिब पाकिस्तान में रावी नदी के किनारे बसा हुआ है और यह डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से महज चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इसकी स्थापना के संस्थापक गुरुनानक देव ने साल 1522 में की थी। साथ ही उन्होंने अपने जीवन के अंतिम 18 वर्ष यही स्थल पर व्यतीत किये थे। करतारपुर गलियारे के माध्यम से भरता के श्रद्धालु पाकिस्तान के गुरूद्वारे की यात्रा बिना वीजा के कर पाएंगे। इसका निर्माण जल्द जायेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी और लोगों से सवाल पूछने...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -