टैकनोलजी

जावा में इनहेरिटेंस क्या है?

इनहेरिटेंस क्या है? (what is inheritance in java in hindi)

इनहेरिटेंस का शब्दशः मतलब होता हैं विरासत। लेकिन प्रोग्रामिंग में इसका मतलब है, दुसरे क्लास के प्रॉपर्टीज को आत्मसात कर, उनका इस्तेमाल करना। जिसके चलते प्रोग्रामर को कोड बार बार लिखना नहीं पड़ता।

इनहेरिटेंस, ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग का एक महत्वपूर्ण पहलु हैं, जो पुनर्वापर (री-यूजाबिलिटी) मुहैय्या कराता हैं। यह एक प्रक्रिया जिसके जरिए एक क्लास का ऑब्जेक्ट दुसरे क्लास की प्रॉपर्टीज को अंगीकृत कर सकता हैं।

जिस क्लास के गुणधर्म दूसरा क्लास इन्हेरिट करेगा, उसे बेस क्लास या सुपर क्लास कहा जाता हैं। और जो क्लास बेस क्लास की प्रॉपर्टीज इन्हेरिट करता हैं उसे डेराइव्हड क्लास या सब क्लास कहा जाता हैं।

जावा प्रोग्रामिंग में एक क्लास के प्रॉपर्टीज दुसरे में इन्हेरिट करने हेतु extend इस कीवर्ड का इस्तेमाल किया जाता हैं।

इनहेरिटेंस के लिए सिंटेक्स (Syntax for Inheritance in hindi)

class derived_class extends base-class

{

//functions and java statements;

}

उदाहरण

class Faculty

{

float salary=13000;

}

class Science extends Faculty

{

float bonus=4000;

public static void main(String args[])

{

Science obj=new Science();

System.out.println(“Salary is:”+obj।salary);

System.out.println(“Bonus is:”+obj।bonus);

}

}

स्पष्टीकरण

इनहेरिटेंस को समझाने हेतु उपर दी गए उदाहरण में हमने Faculty नाम का एक क्लास डिक्लेअर किया हैं। जिसमें हमने एक वेरिएबल सैलरी लिया हैं, जिसका डाटा टाइप फ्लोट हैं और उसे 13000 यह वैल्यू असाइन की हैं।

अब और एक क्लास Science हमने डिक्लेअर किया हैं, जिसमे हमने पहलेवाले Faculty इस क्लास को इन्हेरिट किया हैं। इसका मतलब क्लास Faculty में डिक्लेअर किए गए वेरिएबल और फंक्शन का इस्तेमाल हम क्लास Science में भी कर सकते हैं।

क्लास Science के मेन फंक्शन में हमने Science क्लास का ऑब्जेक्ट तयार किया हैं, और ऑब्जेक्ट की मदत से salary को प्रिंट किया हैं। याद रहें,

salary यह वेरिएबल क्लास Faculty का हिस्सा हैं, न की क्लास Science का जिसमें इसे इस्तेमाल किया गया हैं।

इस उदाहरण की मदत से आप समझ सकते हैं, अगर Faculty क्लास में हम ढेर सारे वेरिएबल्स और फंक्शन्स डिक्लेअर करते तो इनहेरिटेंस की मदत से हम वह सारे वेरिएबल्स और फंक्शन्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे प्रोग्रामर को बार बार कोड लिखने की आवश्यकता नहीं होती हैं, वह सेम कोड का पुनर्वापर कर सकता हैं।

इनहेरिटेंस के प्रकार (Types of Inheritance in java in hindi)

जावा प्रोग्रामिंग में इनहेरिटेंस के 3 मुख्य प्रकार हैं

  1. सिंगल इनहेरिटेंस
  2. मल्टीलेवल इनहेरिटेंस
  3. हिएरार्चिकल इनहेरिटेंस

1. सिंगल इनहेरिटेंस (Single Inheritance in java)

जब किसी बेस क्लास से सिर्फ एक क्लास को डेराइव्ह किया जाता हैं, तब इनहेरिटेंस के इस प्रकार को सिंगल इनहेरिटेंस कहा जाता हैं। सिंगल इनहेरिटेंस को वन-लेवल इनहेरिटेंस भी कहा जाता हैं।

2. मल्टी-लेवल इनहेरिटेंस (Multi-level Inheritance in java)

जब किसी क्लास से एक क्लास को डेराइव्ह किया जाता हैं, और जब उस डेराइव्हड क्लास से और एक क्लास को डेराइव्ह किया जाता हैं, तो इनहेरिटेंस के इस प्रकार को मल्टी-लेवल इनहेरिटेंस कहा जाता हैं।

3. हिएरार्चिकल इनहेरिटेंस (Hierarchical Inheritance in java)

जब क्लास से एक ही समय, एक से ज्यादा क्लास डेराइव्हड किए जाते हैं, तब उसे हिएरार्चिकल इनहेरिटेंस कहा जाता हैं।

मल्टी-लेवल इनहेरिटेंस के विपरीत इसमें एक ही समय पर क्लासेज डेराइव्हड किए जाते हैं, जब की मल्टी-लेवल इनहेरिटेंस में एक डेराइव्हड क्लास से दुसरे क्लास को इन्हेरिट किया जाता हैं, और अब इस डेराइव्हड क्लास से और क्लास को डेराइव्ह किया जाता हैं।

इनहेरिटेंस,उदाहरण की मदद से (inheritance in java with examples in hindi)

इनहेरिटेंस को आसानी से समझने के लिए एक उदाहरण देखते हैं। मान लीजिए की एक परिवार हैं उसमें, दादाजी(बेस क्लास) की प्रॉपर्टी पिताजी(डेराइव्हड क्लास) को विरासत

में मिलती हैं। यह हुआ सिंगल इनहेरिटेंस, चूँकि इसमें क्लास की प्रॉपर्टीज सिर्फ एक क्लास इन्हेरिट कर रहा हैं।

अगर दादाजी से विरासत में मिली प्रॉपर्टीज पिताजी ने बेटे को विरासत में दे दी, तो इस परिस्थिति में पिताजी(डेराइव्हड क्लास) हैं, बेस क्लास बन जाएँगे।

अब पिताजी के पास अपनी खुदकी और दादाजी से प्राप्त प्रॉपर्टीज हैं। अब जब पिताजी(बेस क्लास), बेटे(डेराइव्हड क्लास) को प्रॉपर्टीज देंगे तब, बेटे को दादाजी और पिताजी दोनों की प्रॉपर्टीज प्राप्त होंगी। तो यह हुआ मल्टी-लेवल इनहेरिटेंस

परिवार के उदाहरन को आगे ले जाते हुए, पिताजी(जो की अब बेस क्लास हैं) उनके दो बच्चे हैं, और वह दोनों बच्चे पिताजी की प्रॉपर्टी जब इन्हेरिट करेंगे। ऐसी परिस्थिति को हिएरार्चिकल इनहेरिटेंस कहते हैं।

इस लेख के बारे में यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

यह पोस्ट आखिरी बार संसोधित किया गया July 27, 2018 14:07

प्रशांत पंद्री

प्रशांत, पुणे विश्वविद्यालय में बीबीए(कंप्यूटर एप्लीकेशन्स) के तृतीय वर्ष के छात्र हैं। वे अन्तर्राष्ट्रीय राजनीती, रक्षा और प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज में रूचि रखते हैं।

टिप्पणियां देखें

  • This is very good topic to understand. Thank you for such a nice notes.
    Thank you for writing notes in HINDI. It is good for me.

Recent Posts

अमेरिकी वैज्ञानिक डेविड जूलियस और अर्देम पटापाउटिन ने नोबेल मेडिसिन पुरस्कार 2021 जीता

अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और अर्डेम पटापाउटिन ने सोमवार को तापमान और स्पर्श के रिसेप्टर्स…

October 5, 2021

किसान संगठन को कृषि कानूनों पर रोक के बाद भी आंदोलन जारी रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने लगायी फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी…

October 5, 2021

केंद्र सरकार ने वन संरक्षण अधिनियम में कई संशोधन किये प्रस्तावित

केंद्र सरकार ने मौजूदा वन संरक्षण अधिनियम (एफसीए) में संशोधन के तहत राष्ट्रीय सुरक्षा परियोजनाओं…

October 5, 2021

रूस और जर्मनी के बीच नॉर्ड स्ट्रीम 2 पाइपलाइन का निर्माण पूरा: यूरोपीय राजनीति में होंगे इसके कई बड़े परिणाम

जबकि ईरान-पाकिस्तान-भारत गैस पाइपलाइन, ईरान-भारत अंडरसी पाइपलाइन, और तुर्कमेनिस्तान-अफगानिस्तान-पाकिस्तान-भारत पाइपलाइन पाइप अभी भी सपने बने…

October 4, 2021

पैंडोरा पेपर्स का सचिन तेंदुलकर सहित कई वैश्विक हस्तियों के वित्तीय राज़ उजागर करने का दावा

रविवार को दुनिया भर में पत्रकारीय साझेदारी से लीक पेंडोरा पेपर्स नाम के लाखों दस्तावेज़ों…

October 4, 2021

बढे बजट के साथ आज पीएम मोदी करेंगे एसबीएम-यू 2.0 और अमृत ​​2.0 का शुभारंभ

वित्त पोषण, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों ने गुरुवार को कहा…

October 1, 2021