बुधवार, फ़रवरी 19, 2020

इजराइल ने वेस्ट बैंक में फिलिस्तीनियों के लिए घरो के निर्माण को दी मंज़ूरी

Must Read

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

इजराइल ने बुधवार को नियंत्रित वेस्ट बैंक में यहूदी बस्तीवासियों के लिए 6000 और फिलिस्तीनी आवासियों के 700 नए घरो के निर्माण को मंज़ूरी दे दी है। इस इलाके पर इजराइल का पूरा नियंत्रण है। रायटर्स की न्यूज़ रिपोर्ट के मुताबिक, घरो के निर्माण का ऐलान अमेरिका के राष्ट्रपति के सलाहकार और दामाद जारेड कुशनर की यात्रा से पूर्व दिए गए हैं।

वेस्ट बैंक में बस्तियों का निर्माण

बुधवार को इजराइल व्हाइट हाउस के समाधान योजना से सम्बंधित चर्चा करेने ताकि इजराइल और फिलिस्तिन के बीच राजनीतिक सुलह हो सके। वेस्ट बैंक के एरिया सी के 60 प्रतिशत इलाके पर इजराइल ने कब्ज़ा किया हुआ था। साल 1993 की अंतरिम संधि के मुताबिक, इजराइल का इस इलाके के प्रशासन और सुरक्षा पर नियंत्रण है।

फिलिस्तीन समस्त वेस्ट बैंक को भविष्य की राजधानी के लिए चाहता है। अधिकतर वैश्विक ताकतों ने यह निर्मित बस्तियों को अवैध करार दिया है। लेकिन अमेरिका ने संकेत दिया है कि वह भविष्य में किसी भी शान्ति समझौते में अधिग्रहण के लिए इजराइल का समर्थन करेगा।

मई में कुशनर ने येरुशलम की औपचारिक यात्रा की थी ताकि फिलिस्तीन-इजराइल शान्ति योजना के लिए समर्थन को मज़बूत कर सके। अलबत्ता, इजराइल में राजनीतिक संकट बरकरार है क्योंकि चुनाव के बहुमत न मिलने के कारन गठबंधन की सरकार नहीं बन सकी थी।

फिलिस्तीनी नेतृत्व ने खुश्नर के शान्ति प्रस्ताव की आलोचना की थी। फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा कि इजराइल और फिलिस्तीन के बीच राजनीतिक सुलह की अमेरिका की कथित सदी की संधि नाकाम होगी जैसे वांशिगटन की शान्ति से समृद्धता बैठक हुई थी जो बीते हफ्ते बहरीन में आयोजित की गयी थी।

उन्होंने कहा कि “सदी की संधि का अंत होगा और नाकाम होगी जैसे मनामा मंच हुआ था जिसका आगाज जारेड कुशनर के भाषण से हुआ था और अंत भी उन्ही के भाषण से हुआ था।”

फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री मोहम्मद शतेयह ने बीते हफ्ते कहा था कि “फिलिस्तीन संघर्ष का कोई भी समाधान राजनीतिक होना चाहिए और यह अधिगृहण पर आधारित होना चाहिए।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही तैयारी भारतीयों की "गुलाम मानसिकता"...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए संशोधित...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की टिप्पणियों का जवाब दिया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -