Sun. Jan 29th, 2023
    इजराइल के प्रधानमंत्री

    इजराइल ने भारत को बिना किसी शर्त के खुद की रक्षा करने के लिए सहायता का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने विशेषकर आतंकवाद पर अपनी मदद का प्रस्ताव देते कहा कि इस सहयोग की को हद नहीं है। उन्होंने मांग की कि भारत को भी इजराइल की तरह आतंकी हमलो का जवाब देना चाहिए।

    यरूशलम पोस्ट के मुताबिक आतंकवाद से पीड़ित भारत की मदद के बाबत पूछने पर नवनिर्वाचित इजराइली राजदूत ने कहा कि “खुद की रक्षा के लिए भारत को जिस चीज की जरुरत है, हम यहां अपने करीबी दोस्त की मदद के लिए तैयार है। भारत को विशेषकर आतंकवाद से निपटना है, क्योंकि यह सिर्फ भारत और इजराइल के लिए ही नहीं बल्कि समस्त विश्व के लिए समस्या है।

    उन्होंने कहा कि विश्व को आतंकवाद के खिलाफ लड़ना चाहिए और एकजुट होकर इसका खात्मा करना चाहिए। अपनी जानकारी, तकनीक भारत के साझा कर हम उनकी मदद कर सकते हैं क्योंकि हम वाकई अपने बेहद महत्वपूर्ण मित्र की मदद करना चाहते हैं।

    इजराइल की सेना में कर्नल पद से रिटायर्ड 52 वर्षीय मालका ने कहा कि “प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने मुझसे कहा था कि भारत हमारा बहुत महत्वपूर्ण साझेदार है, बेहद महत्वपूर्ण दोस्त है और वह संबंधों को व्यापक और गहरा करना चाहते हैं। राजदूत ने कहा कि “उनके देश के पाकिस्तान के साथ कोई राजनयिक सम्बन्ध नहीं हैं, इसलिए वह किसी भी गतिविधि पर  इस्लामाबाद के साथ द्विपक्षीय वार्ता नहीं कर सकते हैं।”

    पुलवामा आतंकी हमले पर इजराइल के राजदूत ने ट्वीट कर कहा था कि “इजराइल पुलवामा आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता है और इस मुसीबत की घड़ी में हम अपने मित्र भारत के साथ खड़े हैं। हम सीआरपीएफ और उनके परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं। भारत सरकार और भारत की जनता भयावह कश्मीर आतंकी हमले से जूझ रही है।”

    भारत के अनुसार पुलवामा आतंकी हमले में ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई शामिल थी। पाकिस्तान में आज़ाद घूम रहे मसूद अज़हर की जैश ए मोहम्मद ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली थी।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *