शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

इजराइल ने अमेरिका द्वारा ईरानी तेल की रिआयत खत्म करने पर की सराहना

Must Read

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है।...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका ने ईरानी तेल खरीदने वाले सभी देशों को दी गयी रिआयत को खत्म करने का निर्णय लिया है। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने व्हाइट हाउस के निर्णय की सराहना की है। उन्होंने कहा कि “ईरान पर दबाव बनाने के लिए इसकी बेहद अधिक महत्वता है।”

बेंजामिन नेतन्याहू ने बयान में कहा कि “अमेरिकी प्रशासन और डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा लिए गए निर्णय की, ईरानी आतंकी सरकार पर दबाव बनाए रखने के लिए बेहद जरुरी है। ईरान के आक्रमक रवैये के खिलाफ हम अमेरिका के दृढ संकल्प के साथ खड़े है और यह उन्हें रोकने का सही मार्ग है।”

ईरान का सबसे बड़ा दुश्मन इजराइल है और तेल अवीव अमेरिका का सबसे करीबी दोस्त है। अमेरिका ने बीते वर्ष ईरान के साथ हुई संधि को तोड़कर प्रतिबन्ध लगा दिए थे जिसमे तेल सौदेबाज़ी भी शामिल थी लेकिन वांशिगटन ने आठ देशों को रिआयत बरतते हुए तेल खरीदने की छह माह तक की छूट दी थी लेकिन अमेरिका ने मंगलवार को ऐलान किया कि वह सभी देशों की रिआयत को खत्म कर रहा है।

पिछले साल नवंबर में विदेश विभाग ने आठ देशों को ईरान से तेल आयात के बदले अन्य विकल्प तलाशने के लिए 180 दिनों की छूट दी थी। बीते वर्ष नवंबर में राज्य विभाग ने आठ देशों को 180 दिनों की मोहलत दी थी ताकि वैकल्पिक स्त्रोतों को खोजा जा सके।

ईरान के तेल के सबसे बड़े विक्रेता चीन और भारत है। अगर यह दोनों देश ट्रम्प की मांगो को ख़ारिज करतेकरते हैं तो इसका असर द्विपक्षीय संबंधों पर पड़ सकता है। दक्षिण कोरिया और जापान पहले से ही ईरान के तेल पर कम निर्भर थे। इस कदम का प्रभाव वैश्विक तेल बाज़ार पर भी होगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...

एप्पल 2021 में लॉन्च कर सकती है पूर्ण वायरलेस आईफोन

प्रसिद्ध विश्लेषक मिंग-ची कुओ ने खुलासा किया है कि एप्पल कंपनी 2021 में पूरी तरह से वायरलेस आईफोन लॉन्च करने की योजना बना रही...

एनजीएमए के महानिदेशक को मिला 3 साल का सेवा विस्तार

नेशनल गैलरी ऑफ मॉर्डन आर्ट (एनजीएमए) के महानिदेशक अद्वैत गणनायक को तीन साल का सेवा विस्तार दिया गया है। संस्कृतिक मंत्रालय ने शनिवार को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -