दा इंडियन वायर » समाचार » हमारी सेना के धैर्य की परीक्षा लेना बड़ी भूल होगी : आर्मी चीफ
समाचार

हमारी सेना के धैर्य की परीक्षा लेना बड़ी भूल होगी : आर्मी चीफ

आज यानी 15 जनवरी को 73वां सेना दिवस मनाया गया। इस मौके पर दिल्ली कैंट स्थित ग्राउंड में परेड का आयोजन हुआ। थल सेना प्रमुख जनरल नर्वणे ने परेड की सलामी ली और सैनिकों को संबोधित किया। वहीं इस मौके पर जनरल बिपिन रावत भी मौजूद रहे और उन्होंने भी देश के वीर जवानों को श्रद्धांजलि दी।

आर्मी प्रमुख जनरल नर्वणे ने गलवान घाटी के शहीदों को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। उन्होंने चीन और पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि भारतीय सेना के धैर्य की परीक्षा लेना सबसे बड़ी भूल साबित होगी। पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश लगातार आतंकवाद को पनाह दे रहा है। उसके कई आतंकी हमारे देश में घुसपैठ के लिए तैयार किए जा रहे हैं। लेकिन वहीं हमारी सेना दुश्मन को सीमा पर कड़ा जवाब दे रही है।

उन्होंने कहा कि इस साल 40% ज्यादा इजाफा सीजफायर उल्लंघन में हुआ है और यह दिखाता है कि पाकिस्तान कोई साजिश हमारे देश के खिलाफ रच रहा है। लेकिन हमारी सेना उसके लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने अपने संबोधन में यह बताया की सीमा पर तनाव का हाल बातचीत और राजनीतिक प्रयासों के माध्यम से किया जाएगा। लेकिन दुश्मन देशों को हमारे और हमारी सेना के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए।

आर्मी चीफ ने कहा कि भारतीय सेना देश की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और देश की अखंडता पर कोई आंच नहीं आने देगी। इस कार्यक्रम में बिपिन रावत और आर्मी जनरल समेत चीफ मार्शल भदौरिया, नेवी चीफ कर्मवीर सिंह आदि मौजूद रहे। नेशनल वॉर मेमोरियल पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। इसके अलावा आर्मी चीफ ने इंडियन आर्मी मोबाइल ऐप को भी लॉन्च किया। इस ऐप के जरिए देश के नागरिकों को सेना के बारे में बहुत सी जानकारियां मिल सकेंगी।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!