मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

समय पर आयकर रिटर्न दाखिल न कर पाने पर अब हो सकती है जेल की सजा

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...

आयकर दाताओं को अब थोड़ा अधिक सावधान रहने की आवश्यकता है। अब आयकर दाताओं द्वारा समय पर आयकर रिटर्न दाखिल न करने या आयकर विभाग द्वारा भेजी गयी नोटिस का जवाब न देने पर करदाता को अपने खिलाफ आपराधिक मुकदमे का सामना करना पड़ सकता है।

इसके लिए दिल्ली उच्च न्यायालय ने आयकर अधिनियम 1961 के सेक्शन 276सीसी के तहत आयकर दाता द्वारा समय रहते आयकर रिटर्न दाखिल न कर पाने की स्थिति में व विभाग द्वारा भेजी गयी नोटिस का जवाब ने देने की स्थिति में अभियोजन पक्ष द्वारा आयकर दाता पर कार्यवाही करने की मंजूरी दे दी है।

हालाँकि कर विशेषज्ञों का मानना है कि उच्च न्यायालय के इस आदेश के बाद उन कर दाताओं को बड़ी मुश्किल उठानी पड़ सकती है, जो आमतौर पर अपना कर समय से ही जमा करते हैं, लेकिन महज एक बार उनसे किसी कारण कर जमा करने में देरी हो जाती है। ऐसे करदाताओं द्वारा समय से रिटर्न न जमा कर पाने के चाहे जो भी कारण हों, लेकिन उन्हे जटिल कानूनी प्रक्रिया में फंसना ही पड़ेगा।

इस एक्ट के अनुसार यदि कोई व्यक्ति लगातार तीन साल तक अपना आयकर रिटर्न दाखिल करने में असमर्थ रहने और विभाग द्वारा भेजी गयी नोटिस का भी जवाब न देने की दिशा में उसके खिलाफ वांछित एक्ट के तहत आपराधिक मुकदमा दर्ज़ किया जाएगा।

हाइकोर्ट ने अपने आदेश में स्पष्ट तौर पर कहा है कि समय रहते आयकर रिटर्न दाखिल न करना एक दंडनीय अपराध है।

इसी के साथ करदाताओं ने हाइ कोर्ट से सवाल किया है कि यदि किसी करदाता पर किसी भी तरह का देय कर है ही नहीं है, तब ऐसे में अगर वो आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करता है तो उसके ऊपर किस बिनाह पर मुकदमा दर्ज़ किया जाएगा।

कर विशेषज्ञों का मानना है कि देश में कर को लेकर काफी भ्रम फैला है, ऐसे में आयकर सूची के तहत दाखिल लोग वो भले ही आयकर न भरते हों, उन्हे भी अब रिटर्न समय पर ही दाखिल करना होगा। ग्रामीण आँचल में इस तरह के लोगों की संख्या अत्यधिक है, जो आयकर सूची तो में हैं, लेकिन उनपर किसी भी तरह का आयकर नहीं बनता है। वे लोग रिटर्न भी नहीं भरते हैं।

माना जा रहा है कि न्यायालय के इस आदेश से कर दाताओं को भविष्य में चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -