समय पर आयकर रिटर्न दाखिल न कर पाने पर अब हो सकती है जेल की सजा

Must Read

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले...

आयकर दाताओं को अब थोड़ा अधिक सावधान रहने की आवश्यकता है। अब आयकर दाताओं द्वारा समय पर आयकर रिटर्न दाखिल न करने या आयकर विभाग द्वारा भेजी गयी नोटिस का जवाब न देने पर करदाता को अपने खिलाफ आपराधिक मुकदमे का सामना करना पड़ सकता है।

इसके लिए दिल्ली उच्च न्यायालय ने आयकर अधिनियम 1961 के सेक्शन 276सीसी के तहत आयकर दाता द्वारा समय रहते आयकर रिटर्न दाखिल न कर पाने की स्थिति में व विभाग द्वारा भेजी गयी नोटिस का जवाब ने देने की स्थिति में अभियोजन पक्ष द्वारा आयकर दाता पर कार्यवाही करने की मंजूरी दे दी है।

हालाँकि कर विशेषज्ञों का मानना है कि उच्च न्यायालय के इस आदेश के बाद उन कर दाताओं को बड़ी मुश्किल उठानी पड़ सकती है, जो आमतौर पर अपना कर समय से ही जमा करते हैं, लेकिन महज एक बार उनसे किसी कारण कर जमा करने में देरी हो जाती है। ऐसे करदाताओं द्वारा समय से रिटर्न न जमा कर पाने के चाहे जो भी कारण हों, लेकिन उन्हे जटिल कानूनी प्रक्रिया में फंसना ही पड़ेगा।

इस एक्ट के अनुसार यदि कोई व्यक्ति लगातार तीन साल तक अपना आयकर रिटर्न दाखिल करने में असमर्थ रहने और विभाग द्वारा भेजी गयी नोटिस का भी जवाब न देने की दिशा में उसके खिलाफ वांछित एक्ट के तहत आपराधिक मुकदमा दर्ज़ किया जाएगा।

हाइकोर्ट ने अपने आदेश में स्पष्ट तौर पर कहा है कि समय रहते आयकर रिटर्न दाखिल न करना एक दंडनीय अपराध है।

इसी के साथ करदाताओं ने हाइ कोर्ट से सवाल किया है कि यदि किसी करदाता पर किसी भी तरह का देय कर है ही नहीं है, तब ऐसे में अगर वो आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करता है तो उसके ऊपर किस बिनाह पर मुकदमा दर्ज़ किया जाएगा।

कर विशेषज्ञों का मानना है कि देश में कर को लेकर काफी भ्रम फैला है, ऐसे में आयकर सूची के तहत दाखिल लोग वो भले ही आयकर न भरते हों, उन्हे भी अब रिटर्न समय पर ही दाखिल करना होगा। ग्रामीण आँचल में इस तरह के लोगों की संख्या अत्यधिक है, जो आयकर सूची तो में हैं, लेकिन उनपर किसी भी तरह का आयकर नहीं बनता है। वे लोग रिटर्न भी नहीं भरते हैं।

माना जा रहा है कि न्यायालय के इस आदेश से कर दाताओं को भविष्य में चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...

कोरोनावायरस अपडेट: देश में 24 घंटों में सबसे तेजी से वृद्धि, कुल आंकड़ा 46,000 के पार

भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामलों में पिछले 24 घंटों में सबसे तेजी वृद्धि देखने को मिली है। पिछले 1 दिन में कुल आंकड़ों...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -