शनिवार, नवम्बर 16, 2019

आधार अधिनियम के प्रावधानों के उल्लंघन से कंपनियों पर लग सकता है 1 करोड़ का जुर्माना

Must Read

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान जारी करेंगे 20 राज्यों के पेयजल नमूनों की जांच रिपोर्ट

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान दिल्ली समेत देशभर में 20 राज्यों से लिए...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: पहले चरण के चुनाव के लिए मैदान में उतरे 206 उम्मदीवार

झारखंड में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कुल 206 उम्मीदवार मैदान में हैं। पहले चरण में 30 नवंबर...

आईआरसीटीसी ने एक माह में सुविधा शुल्क के जरिए कमाए 63 करोड़ रुपए

  इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) ने सुविधा शुल्क से इस साल सिर्फ सितंबर माह में 63...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

सूत्रों के अनुसार सरकार ने आधार अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन करने वाली संस्थाओं पर 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना लगाने का प्रस्ताव किया है, एवं यदि उल्लंघन निरंतरता से किया जाता है तो इसके अतिरिक्त उन संस्थानों पर 10 लाख तक का जुर्माना लागाया जाने का प्रस्ताव दिया है।

UIDAI को दिया जाएगा कार्यवाही करने का अधिकार :

वर्तमान में यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया के पास गलत संस्थाओं के खिलाफ कार्यवाही करने की शक्ति नहीं है लेकिन सूत्रों के मुताबिक आधार में निजता की चिंताओं को लेकर संशोधन किया गया है, जिसके तहत सरकार ने यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) को अधिक शक्तियां देने का प्रस्ताव किया है।

सूत्रों के अनुसार, देश में 122 करोड़ से अधिक आधार नंबर जारी किए गए हैं, लेकिन प्राधिकरण के पास वर्तमान में गलत संस्थाओं के खिलाफ प्रवर्तन कार्रवाई करने की शक्तियां नहीं हैं। इसको देखते हुए सरकार UIDAI को विनियामक शक्तियां देने की इच्छुक है।

आधार अधिनियम के उल्लंघन पर लगाया जाएगा जुर्माना :

आधार अधिनियम के उल्लंघन के लिए जुर्माना भरने के विषय पर ड्राफ्ट के प्रावधानों का कहना है कि नागरिक दंड के लिए एक नया खंड जोड़ा जाएगा जो आधार पारिस्थितिकी तंत्र में किसी भी इकाई द्वारा अधिनियम, नियमों, विनियमों और निर्देशों के प्रावधानों का पालन करने में विफलता पर प्रत्येक उल्लंघन के लिए 1 करोड़ रुपयों तक विस्तारित हो सकता है।

इसके साथ ही यदि समय पर जुर्माना नहीं दिया गया तो हर दिन के साथ जुर्माने में 10 लाख रूपए जुड़ते चले जायेंगे।

केंद्रीय प्राधिकरण में अनधिकृत प्रवेश की बढाई सज़ा :

सरकार ने इस नए ड्राफ्ट में एक और नया नियम जोड़ा है। इसके अंतर्गत यदि कोई व्यक्ति संस्था केंद्रीय पहचान डेटा रिपॉजिटरी में प्रवेश करने की कोशिश करती है या डाटा के साथ कुछ छेडछाड करने की कोशिश करती है तो अबसे 3 वर्ष के बजाय उन्हें 10 वर्ष की सजा सुनाई जायेगी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान जारी करेंगे 20 राज्यों के पेयजल नमूनों की जांच रिपोर्ट

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान दिल्ली समेत देशभर में 20 राज्यों से लिए...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: पहले चरण के चुनाव के लिए मैदान में उतरे 206 उम्मदीवार

झारखंड में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कुल 206 उम्मीदवार मैदान में हैं। पहले चरण में 30 नवंबर को मतदान होना है। निर्वाचन...

आईआरसीटीसी ने एक माह में सुविधा शुल्क के जरिए कमाए 63 करोड़ रुपए

  इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) ने सुविधा शुल्क से इस साल सिर्फ सितंबर माह में 63 करोड़ रुपये से ज्यादा की...

ओडिशा सरकार की बुकलेट के अनुसार महात्मा गांधी की हत्या महज एक दुर्घटना

ओडिशा सरकार की एक बुकलेट में महात्मा गांधी की हत्या को महज एक 'दुर्घटना' बताए जाने पर विवाद पैदा हो गया है। कांग्रेस व...

भारतीय महिला फुटबॉल टीम खिलाड़ी आशालता देवी ‘एएफसी प्येयर ऑफ दि इयर’ पुरस्कार के लिए नामांकित

भारतीय महिला फुटबाल टीम की खिलाड़ी लोइतोंगबम आशालता देवी को एशियन फुटबाल कनफेडरेशन (एएफसी) प्लेयर ऑफ द इयर पुरस्कार के लिए नामित किया गया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -