शनिवार, जनवरी 18, 2020

आतंकी सहायक देशो को अलग थलग कर देना चाहिए: वीपी नायडू

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने जोर देते हुए कहा कि आतंकवाद को को खत्म करने के लिए सभी देशो को एकजुट होकर कार्रवाई नहीं करनी चाहिए और आतंकवाद के सहयोगियों राष्ट्रों को अलग थलग देना चाहिए। उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आज के विश्व के लिए आतंकवाद सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है। सभी राष्ट्रों को एकजुट होकर प्रयास करना चाहिए और आतंकवाद को जड़ से खत्म करना चाहिए और साथ ही उन सभी राष्ट्रों को अलग थलग करना चाहिए जो आतंकवाद का समर्थन करते है।”

लिथुआनिया के नागरिकों के लिए भारत ने ई वीजा सुविधा में विस्तार किया है। उन्होंने लिथुआनिया के कारोबारियों को भारत में कारोबार के मौके का लाभ उठाने का आग्रह किया है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि एनर्जी ट्रांसफॉर्मेशन साझेदार के तौर पर लुथानिया को पाकर हम खुश है। भारत साल 2022 तक सौर उर्जा से 100 गीगाबाइट उर्जा का सृजन करने की योजना बना रहा है।

दोनों देशों ने संस्कृति, कृषि और कानूनी सहयोग को बढाने के लिए तीन एमओयू पर दस्तखत किये हैं। इस समझौतों पर दस्तखत के गवाह नायडू और नौसेडा रहे है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि ऐतिहासिक संबंधों को विविध बना रहे हैं। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और राष्ट्रपति गितानस नौसेडा स्कृति, कृषि और कानूनी सहयोग को बढाने के लिए तीन समझौतों पर दस्तखत के गवाह नायडू और नौसेडा रहे है।

वेंकैया नायडू तीन बाल्कन राष्ट्रों की यात्रा पर है, वह लिथुआनिया, लाटविया और एस्टोनिया की यात्रा पर है। वह शनिवार को लिथुआनिया की यात्रा पर पंहुचे थे। उपराष्ट्रपति का स्वागत विदेश मंत्री लिनस लिंकेविसिउस, लिथुआनिया में भारत के राजदूत त्सेवांग नामग्याल और अन्यो ने किया था।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में भारत की स्थायी सदस्यता का लिथुआनिया का समर्थन करता है। उपराष्ट्रपति को  लिथुआनिया के इतिहास की संस्कृत में किताब को भेंट दी थी। लिथुआनिया की भाषा का संस्कृत से काफी जुड़ाव है। मुझे उम्मीद है कि लिथुआनिया की संस्कृति, इतिहास और समाज पर अधिक किताबे भारतीय भाषा में प्रकाशित की जाएगी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों को कुल मिलाकर 4738 साल...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच...

छत्तीसगढ़ : बस्तर में कुपोषण के खिलाफ ‘गुड़’ को हथियार बनाएगी भूपेश सरकार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कुपोषण को नक्सलवाद से बड़ी चुनौती मानते हैं और यही कारण है कि इसके खात्मे के लिए कई अभियान...

सुप्रीम कोेर्ट ने महात्मा गांधी को भारत रत्न दिए जाने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को महात्मा गांधी को भारतरत्न से सम्मानित करने की मांग वाली जनहित याचिका पर केंद्र को कोई भी निर्देश जारी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -