Sun. Jun 23rd, 2024
    अमेरिका पाकिस्तान

    वाइट हाउस द्वारा जारी बयान में बताया कि ट्रम्प प्रशासन और पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के मध्य हुई हालिया वार्ता के दौरान अमेरिका ने पाकिस्तान पर आतंकवादियों के खिलाफ प्रभावी अभियान चलाने की बात कही है। साथ ही अमेरिकी नेताओं ने वांशिगटन द्वारा रोक दी गई सैन्य सहायता राशि के बाबत भी बातचीत की।

    पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने 2 अक्टूबर को अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन और राज्य सचिव माइक पोम्पेओ से मुलाकात की थी। जॉन बोल्टन ने बताया कि यह मुलाकात फलदायी रही है।

    जॉन बोल्टन ने पत्रकारों को बताया कि उन्होंने पाकिस्तान के सैन्य सहायता रोकने और आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई के बाबत महमूद कुरैशी के साथ विचार-विमर्श किया है। उन्होंने कहा अंततः यह बैठक सार्थक सिद्ध हुई है।

    उन्होंने कहा पाकिस्तान के मंत्री ने कई गंभीर मुद्दों और समस्यायों से हमें अवगत कराया। उन्होंने कहा कि नई सरकार नए अध्याय का आरम्भ करेगी और आगे बढ़ने का भरसक प्रयास करेगी।

    जॉन बोल्टन ने कहा उन्होंने अनुमान है कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री को भी यह बैठक सफल होती दिख रही होगी। उन्होंने कहा दोनों राष्ट्र विचार विमर्श करना जारी रखेंगे। इन आगामी वार्ताओं के जरिए हम किस नतीजे पर पहुंचेगे यह देखना अभी बाकी है।

    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान पर आतंकवाद को पनाह देने आरोप लगाया था साथ ही उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान आतंकियों पर नकेल कसने में असमर्थ रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 300  मिलियन डॉलर की सैन्य सहायता राशि पर रोक लगा दी थी।

    डोनाल्ड ट्रम्प ने आरोप लगाया था कि अमेरिका ने पाकिस्तान की सदैव मदद की है और बदले में पाकिस्तान  ने अम्रेरिका को झूठ और धोखा दिया है।

    अमेरिका के इस कदम से पाकिस्तान की आर्थिक सेहत कमजोर पड़ गई थी। साथ ही अमेरिका ने चेतावनी देकर पाकिस्तान के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के दरवाजे भी बंद करवा  दिए थे। पाकिस्तान की सरकार कर्ज के फैले रायते को समेटने के लिए अन्य राष्ट्रों से वार्ता पर जोर दे रही है।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *