मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए अमेरिका नें डाला पाकिस्तान पर दबाव

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

वाइट हाउस द्वारा जारी बयान में बताया कि ट्रम्प प्रशासन और पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के मध्य हुई हालिया वार्ता के दौरान अमेरिका ने पाकिस्तान पर आतंकवादियों के खिलाफ प्रभावी अभियान चलाने की बात कही है। साथ ही अमेरिकी नेताओं ने वांशिगटन द्वारा रोक दी गई सैन्य सहायता राशि के बाबत भी बातचीत की।

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने 2 अक्टूबर को अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन और राज्य सचिव माइक पोम्पेओ से मुलाकात की थी। जॉन बोल्टन ने बताया कि यह मुलाकात फलदायी रही है।

जॉन बोल्टन ने पत्रकारों को बताया कि उन्होंने पाकिस्तान के सैन्य सहायता रोकने और आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई के बाबत महमूद कुरैशी के साथ विचार-विमर्श किया है। उन्होंने कहा अंततः यह बैठक सार्थक सिद्ध हुई है।

उन्होंने कहा पाकिस्तान के मंत्री ने कई गंभीर मुद्दों और समस्यायों से हमें अवगत कराया। उन्होंने कहा कि नई सरकार नए अध्याय का आरम्भ करेगी और आगे बढ़ने का भरसक प्रयास करेगी।

जॉन बोल्टन ने कहा उन्होंने अनुमान है कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री को भी यह बैठक सफल होती दिख रही होगी। उन्होंने कहा दोनों राष्ट्र विचार विमर्श करना जारी रखेंगे। इन आगामी वार्ताओं के जरिए हम किस नतीजे पर पहुंचेगे यह देखना अभी बाकी है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान पर आतंकवाद को पनाह देने आरोप लगाया था साथ ही उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान आतंकियों पर नकेल कसने में असमर्थ रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 300  मिलियन डॉलर की सैन्य सहायता राशि पर रोक लगा दी थी।

डोनाल्ड ट्रम्प ने आरोप लगाया था कि अमेरिका ने पाकिस्तान की सदैव मदद की है और बदले में पाकिस्तान  ने अम्रेरिका को झूठ और धोखा दिया है।

अमेरिका के इस कदम से पाकिस्तान की आर्थिक सेहत कमजोर पड़ गई थी। साथ ही अमेरिका ने चेतावनी देकर पाकिस्तान के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के दरवाजे भी बंद करवा  दिए थे। पाकिस्तान की सरकार कर्ज के फैले रायते को समेटने के लिए अन्य राष्ट्रों से वार्ता पर जोर दे रही है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -