दा इंडियन वायर » स्वास्थ्य » आँतों में परजीवी के लक्षण, घरेलु उपचार
स्वास्थ्य

आँतों में परजीवी के लक्षण, घरेलु उपचार

आँतों में परजीवी intestinal parasite in hindi


यदि आपका पेट अक्सर खराब हो जाता है और उलटी रहती है तो इसका कारण यह हो सकता है कि आपके पेट में कुछ बाहरी तत्व या कीड़े हैं जो आपके पेट में गड़बड़ी उत्पन्न कर रहे हैं।

आंतों में परजीवी या कीड़े जीव होते हैं जो मनुष्यों या जानवरों जैसे अन्य जीवों को अपना आहार बनाते हैं। इनमें सबसे आम प्रकार फ्लैटवर्म और राउंडवर्म होते हैं।

आँतों में कीड़े होने के लक्षण (symptoms of intestinal infection in hindi)

  • भूख में कमी
  • पेट दर्द
  • जी मिचलाना
  • दुर्बलता
  • थकान
  • वजन घटना

कीड़े हो जाने के कारण (reason of intestinal infection in hindi)

  • अधूरे पके हुए मांस का सेवन
  • दूषित पानी का सेवन
  • दूषित मिट्टी, पानी, मल या कुछ घरेलू बर्तनों के संपर्क में आना
  • अस्वच्छता

आंत में परजीवी (संक्रमण) का उपचार (intestinal parasite treatment in hindi)

आइये हम आपको इनसे निजात पाने के घरेलू उपचारों के बारे में बताते हैं।

1. सेब का सिरका (apple cider vinegar)

सेब का सिरका सिर्फ पौष्टिक नहीं है बल्कि परजीवी से संक्रमित होने के बाद आपके पेट के पीएच को सामान्य में वापस लाने में भी मदद करता है। यह परजीवी को मारने और आपके स्वास्थ्य को बहाल करने में भी मदद कर सकता है।

सामग्री:

  • 1 बड़ा चम्मच सेब का सिरका
  • 1 गिलास गर्म पानी
  • शहद

कैसे इस्तेमाल करें?

  • एक गिलास गर्म पानी में सेब का सिरका मिला लें।
  • इसमें थोडा सा शहद मिलाकर इसे ग्रहण कर लें।

उच्च परिणाम के लिए दिन में 1-2 बार इसका सेवन करें।

2. लहसुन (garlic)

लहसुन में एलिसिन और एजोइन जैसे यौगिकों की उपस्थिति इसको एंथेलमिंटिक गुण प्रदान करती है। इस प्रकार, रोजाना कच्चे लहसुन खाने से पेट के कीड़े को आसानी से मारने में मदद मिल सकती है।

सामग्री:

  • 2-3 लहसुन की छिली हुई कलियाँ

कैसे इस्तेमाल करें?

  • 2-3 लहसुन की कलियों को प्रतिदिन खाली पेट चबाकर खा लें।

इसे प्रतिदिन सुबह लें।

3. नारियल का तेल (coconut oil)

नारियल के तेल और मांस दोनों ही आपके शरीर को तत्काल ऊर्जा प्रदान करते हैं और किसी भी आंतों परजीवी को नष्ट करने और निष्कासित करने में मदद करते हैं।

सामग्री:

  • 1 बड़ा चम्मच शुद्ध नारियल का तेल

कैसे इस्तेमाल करें?

  • 1 बड़ा चम्मच शुद्ध नारियल का तेल सीधा खा लें या फिर इसे अपने खाने में डाल लें।
  • आप आंतों में परजीवी के उन्मूलन में सहायता के लिए सूखे नारियल के मांस का भी उपभोग कर सकते हैं।

इसे प्रतिदिन एक बार लें जब तक आपको अपनी अवस्था में सुधार नहीं नज़र आने लगे।

4. लौंग (clove)

लौंग में यूजीनॉल नामक एक यौगिक होता है, जो एक मजबूत जीवाणुनाशक और एंथेलमिंटिक एजेंट होता है। इसका नियमित सेवन आंतों परजीवी और उनके लार्वा और अंडे के विनाश में सहायक होता है।

सामग्री:

  • 2-3 लौंग
  • 1 कप पानी
  • शहद

कैसे इस्तेमाल करें?

  • पानी में लौंग डाल लें।
  • इसे उबाल लें।
  • 5 मिनट तक उबलने दें फिर छान लें।
  • इस मिश्रण के ठंडा हो जाने पर इसमें थोडा शहद डाल लें।
  • तुरंत इसका सेवन कर लें।

इसे एक हफ्ते तक प्रतिदिन 3-4 बार लें।

5. हल्दी (turmeric)

हल्दी में कर्कुमिन की उपस्थिति आंतों परजीवी से छुटकारा पाने की क्षमता सहित कई लाभ प्रदान करता है।

कर्कुमिन एंथेलमिंटिक और एंटीमाइक्रोबियल गुण प्रदर्शित करता है जो परजीवी के साथ ही अन्य विषाक्त पदार्थों को आंत से साफ करता है।

सामग्री:

  • 1 चम्मच पीसी हुई हल्दी
  • 1 गिलास गर्म दूध

कैसे इस्तेमाल करें?

  • 1 चम्मच हल्दी गर्म दूध में डाल लें।
  • इसे अच्छी तरह मिलाकर इसका सेवन कर लें।

इसे कुछ दिनों तक प्रतिदिन एक से दो बार लें।

6. पपीता (papaya)

पपीते के बीज में एंथेलिंटिक और एंटी-अमीबिक गुण होते हैं जो आंतों से परजीवी को निष्कासित करने में मदद करते हैं। आंतों के कीड़े को मारने के दौरान वे आपके पाचन को बढ़ाते हैं।

सामग्री:

  • 1 बड़ा चम्मच पपीते के बीज
  • 1/2 कप पपीता
  • 1 कप नारियल दूध

कैसे इस्तेमाल करें?

  • ब्लेंडर में पपीते के बीज, पपीता और नारियल दूध डालकर पीस लें।
  • अच्छी तरह पीसकर इसका सेवन कर लें।

इसे हर तीन दिन में एक बार लें।

7. अदरक (ginger)

अदरक में जिंजरोल नामक एक यौगिक आपके पाचन को बढ़ाता है और राउंडवर्म, रक्त प्रवाह, इत्यादि जैसे आंतों परजीवी को खत्म करने और मारने में मदद करता है।

सामग्री:

  • 1-2 बारीक कटा हुआ अदरक
  • 1 कप पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  • अदरक को पानी में डाल लें।
  • इसे 5 मिनट तक उबाल लें।
  • इसे छान कर कुछ देर ठंडा होने दें।
  • इसके ठंडा हो जाने से पहले इसका सेवन कर लें।

इसे प्रतिदिन 3-4 बार लें।

8. नीम (neem)

नीम के पत्ते आपकी आंतों से परजीवी को मारने और नष्ट करने में मदद करते हैं। यह मुख्य रूप से उनके एंटी परासिटिक गुणों के कारण है।

सामग्री:

  • 8-10 नीम की पत्तियां
  • पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  • नीम की पत्तियों को पीसकर गाढा पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट का आधा बड़ा चम्मच लें और खाली पेट एक गिलास पानी और शहद के साथ ले लें।

इसे 3 हफ़्तों में एक बार लें।

9. एलो वेरा (aloe vera)

एलो वेरा रेचक प्रभाव प्रदर्शित करता है जो आपके पेट से सभी विषाक्त पदार्थों और परजीवी को निकालने में मदद करते हैं। यह आंतों से परजीवी के इलाज के लिए सबसे अच्छे उपचारों में से एक है।

सामग्री:

  • 1 गिलास ताज़ा एलो वेरा का रस

कैसे इस्तेमाल करें?

  • एक गिलास ताज़ा एलो वेरा का रस पी लें।

आप प्रतिदिन 2-3 कप ताज़ा एलो वेरा रस पीयें जिसके आपको फायदा मिलेगा।

10. नीम्बू (lemon)

नींबू के बीज अपनी गतिविधि को कम करके पेट से परजीवी को हटा सकते हैं। और विटामिन सी का समृद्ध स्रोत होने के कारण, नींबू का रस कीड़े को नष्ट करने में नींबू के बीज के प्रभाव को बढ़ाता है।

सामग्री:

  • नीम्बू के बीज
  • 1/2 नीम्बू
  • 1 गिलास पानी
  • शहद

कैसे इस्तेमाल करें?

  • नीम्बू के बीज को पीसकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को पानी में डाल लें।
  • इसमें आधे नीम्बू का रस और शहद डाल लें।
  • अच्छी तरह मिलाकर इसका सेवन कर लें।

इसे कुछ दिनों तक दिन में दो बार लें।

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

दिव्या

2 Comments

Click here to post a comment

  • mera naam anuj hai
    pichle kuch dinon se mujhe mera digestion theek nahi lag raha hai din mein khaana khaane ke baad kabhi kabhi vommiting bhi ho jaati hai kya yah meri aanton mein parjeevi hone ki wajah se ho sakta hai?

  • एक गिलास गर्म पानी में सेब का सिरका मिला लें।
    इसमें थोडा सा शहद मिलाकर इसे ग्रहण कर लें।
    उच्च परिणाम के लिए दिन में 1-2 बार इसका सेवन करें।
    पर यह नहीं बताया कब लेना है ? खाली पेट या सुबह ,शाम खाने के बद

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!