Thu. Dec 1st, 2022
    ashok gehlot

    राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट नें आज जयपुर में आगामी लोकसभा चुनावों के लिए कृष्णा पूनिया के लिए प्रचार प्रसार किया। आपको बता दें कि जयपुर पिछड़े इलाके में कृष्णा पूनिया के सामने राज्यवर्धन सिंह राठौड़ हैं।

    अशोक गहलोत नें इस दौरान जनता से कांग्रेस के घोषणा पत्र के बारे में बात की और बीजेपी सरकार की विफलताओं की जानकारी दी।

    अशोक गहलोत नें अपने भाषण में कहा, “खुशी है कि आज आप इतनी बड़ी तादाद में यहां पधारे हो, आने में देरी हुई उसके लिए माफी चाहते हैं। आप सबको मालूम है कि हम सब की राय से राहुल गांधी जी ने आप के यहां से कृष्णा पूनिया जी को कांग्रेस का प्रत्याशी घोषित किया है। अब हम सब की जिम्मेदारी है कि हम उनको कामयाब करें, वो आपके आशीर्वाद से जीतकर जाएगी उसके बाद में आप के बीच में आते जाते रहेंगे, आपके सुख दुख में साथी के रूप में काम करेगी और जयपुर जिले की आवाज को दिल्ली की पंचायत में उठाने में कोई कमी नहीं रखेगी।”

    उन्होनें आगे कहा, “अभी सरकार बनाई है आपने हाल ही में राजस्थान की, कड़ी से कड़ी जुड़ेगी तो मैं मानता हूँ कि हमारी सरकार और भी मजबूत बनेगी, केंद्र से अधिक से अधिक सहयोग मिलेगा और जो सपना देखा हम लोगों ने काम करने का अभी तो शुरुआत हुई है उसकी, एक झलक मिली है कि हमने दो ढाई महीनों के अंदर ही अंदर इतनी फैसले किए हैं किसानों के लिए किए हो, राहुल गांधी जी ने कर्जा माफ करने की बात की तो हमने कोऑपरेटिव बैंकों के, भूमि विकास बैंक के किए और राष्ट्रीय कृत बैंकों के कर्ज माफ करने के लिए हमने कह रखा है जिनका एनपीए हुआ है उनका दो लाख तक का कर्जा माफ करेंगे और अभी तक 500 करोड़ के कर्जे जयपुर जिले में माफ हो चुके हैं, इसरूप में सरकार ने जो कहा है वह करके दिखाना चाहती है।”

    इससे पहले अशोक गहलोत नें करौली में कांग्रेस प्रत्याशी संजय कुमार जाटव के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया।

    ashok gehlot karauli
    करौली में कांग्रेस प्रत्याशी संजय कुमार जाटव के साथ अशोक गहलोत और सचिन पायलट

    यहाँ अशोक गहलोत नें अपने भाषण में कहा, “मुझे ख़ुशी है कि हम सब लोग आज एक साथ आप सबके सामने हाजिर है और यही लोकतंत्र की परम्परा रही है ऐसी मीटिंगों से लोकतंत्र जिन्दा रहा है और यह लोकतंत्र जो वोटों का राज कहलाता है इसकी स्थापना भी कांग्रेस ने करी थी।”

    उन्होनें आगे कहा, “संजय जाटव नौजवान है इनको आपका आशीर्वाद मिले, आपकी दुआए, आपका सहयोग, आपका समर्थन एक नौजवान को मिलेगा हम सब लोग इनकी जमानत देने आये है की ये आपके बीच में चुनाव के बाद आते जाते रहेंगे, आपके सुख दुःख के साथी बनेगे और आपके विकास की आवाज को उठाने में कोई कमी नहीं रखेंगे यह कहने के लिए हम आये है। नौजवान को चिंता रहती है की मैं काम करूँगा तभी जनता आगे मुझे मौका देगी इसलिए वो काम करने में कोई कमी नहीं रखता है। राहुल गांधीजी ने सोच समझ करके टिकट दिया है इनको अब आपके ऊपर है की आप इनको कामयाब करो।”

    अशोक गहलोत नें आगे कहा, “यूपीए गवर्नमेंट ने आजादी के बाद में अधिकार आधारित युग की शुरुआत की….कानून पास करके नरेगा योजना लागू की रोजगार के लिए, शिक्षा का अधिकार दिया, फूड सिक्योरिटी एक्ट बनाया गया, सूचना का अधिकार दिया गया,इस प्रकार से देश में अधिकार आधारित युग की शुरुआत हुई थी।”

    न्याय योजना पर अशोक गहलोत बोले, “अभी राहुल जी ने नई घोषणा की है, #NYAY के रूप में देश के 20% गरीब से शुरुआत करेंगे, पहले फेज में और उनको 6000 रू प्रतिमाह मिलेंगे। प्रधानमंत्री जी ने योजना लागू की है साल में 2000 की 3 किस्तें देंगे। एक तरफ साल में 6000 रू 3 किस्त में, दूसरी तरफ 6000 रू प्रतिमाह परिवार को मिलेंगे।”

    मनरेगा पर उन्होनें कहा, “गांव-शहर से गरीबी हटाने का बहुत बड़ा काम #NYAY योजना से शुरू होगा जिसकी कल्पना अभी नहीं कर सकते। नरेगा जब आया तब लोग समझ नहीं पाए बाद में मालूम पड़ा 100 दिन का रोजगार किसे कहते हैं गारंटी है सरकार की,मांगने से काम मिलेगा। अब राहुलजी ने घोषणा की है,100 दिन नहीं 150 दिन काम मिलेगा।”

    उन्होनें आगे कहा, “हम मोदीजी की तरह अपनी बात थोपना नहीं चाहते जो वे रविवार को थोपते थे, राहुल जी ने कहा जनता क्या कहती है वह सुनकर के हम काम करें, पूरे देश में घूम कर हमारी टीमों ने शानदार मेनिफेस्टो बनाया है, मोदीजी रोज हमारे मेनिफेस्टो की चर्चा करते हैं, खुद का मेनिफेस्टो सिफर है कोई काम का नहीं।”

    भारतीय सेना के बारे में उन्होनें कहा, “हमारे देश का 70 साल का इतिहास गवाह है इंदिरा गांधी जी ने जान दे दी अपनी पर देश को एक रखा, अखंड रखा, खालिस्तान नहीं बनने दिया, पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए, उदय हो गया बांग्लादेश का और हमारी फौजों ने 90 हजार जनरल, कर्नल, मेजर, फौजी सब को सरेंडर करवा दिया हथियारों के साथ में हमारी सेनाओं का शौर्य इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में लिखा गया, इंदिरा जी ने कभी नहीं कहा कि मैंने विजय हासिल की है,मैंने पराक्रम दिखा दिया, जो मोदीजी कहते हैं। वे संदेश देते हैं कि उपग्रह छोड़ा है तो मैंने छोड़ा है,मेरी उपलब्धि है, आपकी उपलब्धि नहीं है,वैज्ञानिकों की उपलब्धि है।”

    नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए गहलोत नें कहा कि लोकतंत्र में सबकी बात सुननी चाहिए।

    उन्होनें कहा, “लोकतंत्र की खासियत यही है, आप विपक्ष की पार्टी की बात सुनो, आलोचनाओं को सहन करो और राज करो। यह लोकतंत्र का कायदा नहीं होता है कि आपके पास में मेजोरिटी है, परवाह नहीं करो, बोलते रहेंगे कौन परवाह करे, यह नहीं होना चाहिए। जो मोदी जी ने करके दिखाया आज घृणा का, नफरत का, हिंसा का माहौल है निर्दोष लोग मारे जा रहे हैं। लोकतंत्र खतरे में है, देश खतरे में है और संविधान खतरे में है। मोदी जी वापस चुनाव जीत के आ गए तो बाद में चुनाव करवाएंगे या नहीं पता नहीं, यह स्थिति बन गई। मुल्क के इन हालातों को हमें समझना पड़ेगा और नई पीढ़ी को भी।”

    उन्होनें आगे कहा, “सोशल मीडिया पर मोदी जी की टीमें लगी हुई हैं, आप पढ़ते होंगे उनके कमेंट्स..कितने कमेंट्स खिलाफ में आ जाएंगे, आप सोच नहीं सकते, इतनी टीमें उनकी बैठी हुई है… नोटबंदी के बाद इतना पैसा उनके पास में आ चुका है।”

    योगी आदित्यनाथ के बारे में अशोक गहलोत नें कहा, “योगी जी ने जो कहा कि यह फौजें मोदी जी की सेना है, बहुत खतरनाक स्टेटमेंट दिया उन्होंने, बहुत खतरनाक… योगी जी पर मुकदमा चलना चाहिए। योगी जी ऐसा बोल रहे हैं जिन्होंने संविधान की शपथ ली। आप सोच सकते हो किस दिशा में जा रहे हैं हम लोग, ये खतरनाक दिशा में देश को ले जाना चाहते हैं।”

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *