Mon. Jun 24th, 2024
    मेघालय बचाव कार्य पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा: अधिकारी गंभीर प्रयास करने में विफल रहे

    सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति बीके कटेकी की अध्यक्षता वाले न्यायिक पैनल द्वारा मेघालय में कोयला खनन प्रतिबंध के बड़े पैमाने पर उल्लंघन के दिनों के बाद, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने शुक्रवार को पर्यावरण को बहाल करने के लिए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पास राज्य सरकार से 100 करोड़ रुपये जमा करने के लिए कहा।

    यह आदेश तब भी आया जब बचावकर्मी पूर्वी जयंतिया हिल्स में 370 फीट अवैध कोयला खदान से पानी निकालने में जुटे हैं जहां 15 दिसंबर को 15 खनिक फंस गए थे। बचाव कार्य पर कड़ी नज़र रखने वाली सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को प्रशासन को लताड़ लगाई है। उन्होंने कहा-“अधिकारी शुरुआत में ही गंभीर प्रयास करने से चूक गए जब खनिक 13 दिसंबर वाले दिन से मेघालय में फंसे हुए थे।”

    सरकार ने अपने बचाव में शीर्ष अदालत से कहा कि पास की एक नदी से खदान में पानी का रिसाव लगातार हो रहा है जिसकी वजह से बचाव अभियान में बाधा आ रही है। सरकार ने ये भी कहा कि अवैध खान होने के कारण उसके पास इस खदान का कोई नक्शा नहीं है जिसकी वजह से दिक्कतें आ रही है।

    मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने कहा, “हम चुनौतियों को दूर कर रहे हैं और उस दूर दराज के स्थान पर पुरुषों, मशीनों, पंपों की सहायता से पानी निकालने का काम किया जा रहा है। हम सर्वोच्च न्यायालय की चिंता से अवगत हैं। हम उनकी राय का सम्मान करते हैं और इसका पालन करेंगे। लेकिन हम यह भी स्पष्ट करना चाहते हैं कि दी गई स्थिति में हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है। यह एक बहु-एजेंसी ऑपरेशन है।”

    समिति ने अपनी रिपोर्ट एनजीटी को सौंप दी थी – जिसने दो दिन पहले 2014 में कोयला खनन पर प्रतिबंध लगाया था। यह स्पष्ट रूप से कहा गया है कि राज्य में अधिकांश खदानें बिना पट्टे या लाइसेंस के चल रही हैं।

    ये भी पढ़ें मेघालय बचाव कार्य पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा: अधिकारी गंभीर प्रयास करने में विफल रहे

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *