Sun. Jul 21st, 2024
    Arvind Kejriwal

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को दिल्ली के सरकारी स्कूलों के लिए 11,000 नए कक्षाओं के निर्माण की नींव रखी और साथ ही मौका देख कर लोक सभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी के लिए वोट मांगना भी शुरू कर दिया।

    सर्वोदया कन्या विद्यालय में छात्रों और उनके माता-पिताओं को संबोधित करते हुए, दोनों नेताओं माता-पिता से पूछा कि वे पीएम नरेंद्र मोदी को ज्यादा चाहते हैं या अपने बच्चो को।

    केजरीवाल ने कहा-“अगर आप अपने बच्चो से प्यार करते हैं तो उनके लिए वोट करे जो आपके बच्चो के लिए काम कर रहे हैं और अगर आप अपने बच्चो से प्यार नहीं करते हैं तो जाइये और मोदी जी को वोट दे दीजिये। मोदी जी ने एक भी स्कूल या कक्षा नहीं बनवाई है। आपको राष्ट्र-प्रेम और मोदी-प्रेम में एक चुनना होगा।”

    उनके डिप्टी सिसोदिया ने छात्रों से अपने माता-पिता का धन्यवाद करने के लिए भी कहा क्योंकि उन्होंने ही आप को वोट दिया था। उन्होंने कहा-“अगर माता-पिता ने आप को वोट नहीं दिया होता तो पार्टी कैसे आपके और दिल्ली के लिए काम कर पाती?” उन्होंने खुद भी माता-पिता का धन्यवाद किया।

    “स्कूल के बाहर, देश में ऐसा वातावरण है जहाँ लोग मंदिर और मस्जिद की राजनीती कर रहे हैं। मगर दिल्ली सरकार स्कूल बनाने और शिक्षा की राजनीती कर रही है। मैंने किसी से पुछा कि वे किसे वोट देंगे। उन्होंने कहा कि वे मोदी को वोट देंगे। जब पूछा क्यों तो उन्होंने कहा कि वे मोदी जी को चाहते हैं और उन्हें प्यार करते हैं। मैंने कहा कि अगर आप बच्चो को प्यार करते हो तो उनके लिए वोट करे जो उनके लिए स्कूल बनवा रहे हैं।”

    केजरीवाल ने कहा कि चार साल में उन्होंने दिल्ली के स्कूलों में 21,000 कक्षाएं बनवाई हैं। उनके मुताबिक, “वर्तमान में, दिल्ली में 1,100 स्कूल हैं जिनमे 24,000 के आस-पास कक्षाएं हैं। अगर 21,000 और कक्षाएं बनवाई जाएंगी तो हम कह सकते हैं राजधानी में 1,000 नए स्कूल बनवाए जाएँगे।”

    केजरीवाल ने अपने संबोधन में, केंद्र सरकार पर भी दिल्ली सरकार द्वारा किये गए कामों को प्रतिबंधित करने के लिए हमला बोला। उन्होंने कहा-“सिसोदिया और मैंने दूसरे साल में कक्षाएं बनवाने का फैसला किया था मगर केंद्र सरकार ने हमारी फाइल ले ली। बार बार उन्होंने हमें दिल्ली के लिए काम करने से रोका है। उसके बाद भी हम कक्षा बनवाने में कामयाब हो पाए।”

    “मैं आप सबसे एक अनुरोध करना चाहता हूँ। पिछली बार विधानसभा में आपने हमारे लिए वोट किया और 70 में से 67 सीट दी। मगर आपने सभी सात सांसद भाजपा को दे दिए। अगर सारे सांसद हमारी पार्टी से रहे तो ज्यादा गति से ज्यादा काम कर पाएंगे। फ़िलहाल हमारे काम को प्रतिबंधित किया जा रहा है।”

    सिसोदिया ने भी केजरीवाल की धुन में धुन मिलाते हुए कहा-“मुझे डर लगता है कि अगर हम यहाँ नहीं रहे या सत्ता खो देते हैं तो कोई और सत्ता में आ जाएगा और इन बिल्डिंग को शादियों के लिए इस्तेमाल कर लेगा, शिक्षा के लिए नहीं।”

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *