Sat. Dec 10th, 2022
    अमेरिकी राज्य विभाग

    अमेरिका के राज्य विभाग के राजनीतिक-सैन्य मामलो के उपसचिव आर क्लार्क कूपर जून के शुरूआती चरण में भारत की यात्रा पर आएंगे और इस दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग और शान्ति स्थापित करने के बाबत चर्चा की जाएगी।राज्य विभाग ने बयान जारी कर कहा कि “भारत में असिस्टेंट सचिव कूपर रक्षा सहयोग और पीसकीपिंग पर बातचीत के लिए जायेंगे।”

    बयान के मुताबिक, यह दो महत्वपूर्ण क्षेत्र अमेरिका-भारत साझेदारी में तीव्रता वृद्धि करेंगे, जो प्रशासन की इंडो-पैसिफिक रणनीति के लिए जरुरी है। भारत और अमेरोका के बीच साल 2008 में द्विपक्षीय व्यापार शून्य था और आज यह बढ़कर 15 अरब डॉलर हो गया है। यह वार्ता भारत के प्रमुख रक्षा साझेदार बनकर सहयोग करने पर आधारित होगी, हम सुरक्षा सहयोग को बढ़ा रहे हैं और अमेरिकी उद्योग में अवसरों का सृजन कर रहे हैं।

    इसके आलावा अमेरिकी अधिकारी सिंगापुर और श्रीलंका की भी यात्रा करेंगे, वह दक्षिण एशिया का सफर पर 29 मई से 7 जून तक है। श्रीलंका में अमेरिकी  राज्य विभाग के अधिकारी सरकारी अधिकारीयों और थिंक-टैंक विशेषज्ञों से मुलाकात करेंगे। इस दौरान वह रक्षा, शान्ति की स्थापना, आतंकवाद के खात्मे और अन्य साझा हितो के मामलो पर चर्चा करेंगे।

    सिंगापुर में कार्यकारी रक्षा सचिव पैतृक षानहन के प्रतिनिधित्व में अमेरिकी अधिकारीयों का समूह का हिस्सा कूपर भी होंगे। शांगरी ला वार्ता में इंडो-पैसिफिक क्षेत्र से रक्षा और सुरक्षा नीति जानकार भी शामिल होंगे।

    अमेरिकी अधिकारी समूचे विश्व के विभिन्न देशों के सैन्य अफसरों से भी क्षेत्रीय सुरक्षा, समुंद्री सुरक्षा और रक्षा व्यापार प्रयासों पर चर्चा करेंगे। अमेरिका इंडो पैसिफिक में चीन के प्रभुत्व को खत्म करने के लिए एशिया के विभिन्न देशों के चर्चा कर रहा है।

    अमेरिका और चीन के बीच दक्षिणी चीनी सागर, व्यापार और ताइवान को लेकर मतभेद उभरता जा रहा है। दोनों देशों के बीच व्यापार पर कई चरणों की बातचीत के बावजूद कोई समझौते नहीं हुआ है।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *