सोमवार, जनवरी 20, 2020

अमेरिकी राजदूत ने चीनी मुस्लिमों के शिविरों को बताया भयंकर

Must Read

छत्तीसगढ़ : बीजापुर के जंगलों में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक महिला नक्सली ढेर

छत्तीसगढ़ में बीजापुर के जंगली इलाके में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने एक मुठभेड़ में एक...

केरल : मंत्रीमंडल ने राज्य में एनपीआर और एनआरसी को लागू नहीं करने को मंजूरी दी

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अपना रुख सख्त करते हुए केरल मंत्रिमंडल ने सोमवार को विशेष बैठक करने...

लीबिया : पाइपलाइन बंद होनें से प्रभावित हुई कच्चे तेल की आपूर्ति, 10 दिनों की ऊंचाई पर पहुंची कीमत

तनावग्रस्त लीबिया से कच्चे तेल की आपूर्ति प्रभावित होने से सोमवार को तेल के दाम में एक फीसदी से...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिकी राजदूत ने चीनी शिविरों में कैद 10 लाख उइगर मुस्लिमों की हालात भयावह बताये। अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता मामलों के अमेरिकी राजदूत सैम ब्रोनबैंक ने मंगलवार को कैद में मुस्लिम बंदियों की स्वतंत्र जांच और उन्हें रिहा करने की की मांग थी।

अमेरिकी राजदूत का बयान

बीते सप्ताह अमेरिकी राजदूत के बयान पर चीन ने क्रोधित होकर विरोध किया था। राजदूत सैम ने बीते सप्ताह हांगकांग में धार्मिक अल्पसंख्यकों पर बनी बीजिंग की नीतियों की आलोचना की और आरोप लगाया की चीन आस्था के साथ जंग लड़ रहा है।

पत्रकारों से बातचीत में सैम ने बताया कि “चीन के स्पष्टीकरण से संतोषजनक जवाब नहीं मिलता है।” अमेरिका ने धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन करने वाली फेरहिस्त में चीन का नाम भी शामिल किया है।

उइगर मुस्लिमों की हालत

चीन के दक्षिणी भाग में स्थित शिनजिआंग प्रान्त में उइगर मुस्लिम बहुसंख्यक हैं और इस क्षेत्र को आधिकारिक तौर पर स्वायत्तता प्रदान कर रखी है। जानकारों के मुताबिक चीन के शिनजिआंग के शिविरों में लाखों उइगर मुस्लिमों को नजरबन्द रखा गया है।

अंतर्राष्ट्रीय मानवधिकार कार्यकर्ता ने कहा कि यह एक धार्मिक व संजातीय समूह की पहचान बदलने का प्रयास है। एमनेस्टी इंटरनेशनल की सेक्रेटरी जनरल ने कहा कि शिनजियांग एक खुले कैदखाने के रूप में परिवर्तित हो गया है। जहां के निवासी अपनी ही सरजमीं पर बेगाने हो गए हैं।

साउथ चाइना मोर्निंग पोस्ट के मुताबिक बीजिंग ने शुरुआत में इन आरोपों को खारिज किया और बाद मे बताया कि उन लोगों को शिविरों में प्रशिक्षण के लिए रखा गया है। अमेरिकी मानवधिकार कार्यकर्ता रोशन अब्बास ने कहा कि कई लोग सालों से अपने परिवार व दोस्तों से संपर्क साधने में असमर्थ है।

शिनजिआंग में उइगर मुस्लिम वर्षों से हिंसा व उत्पीड़न झेल रहा है। इस इलाके में कड़ी सुरक्षा के लिए चीन ने आतंकी गतिविधियों को जिम्मेदार ठहराया है। आलोचकों और परिवार के सदस्यों के मुताबिक इन कथित प्रशिक्षण शिविरों में लोगों का ब्रेनवाश किया जा रहा है, उन्हें इस्लाम त्यागकर चीनी समाज को अपनाने के लिए मज़बूर किया जा रहा है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

छत्तीसगढ़ : बीजापुर के जंगलों में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में एक महिला नक्सली ढेर

छत्तीसगढ़ में बीजापुर के जंगली इलाके में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने एक मुठभेड़ में एक...

केरल : मंत्रीमंडल ने राज्य में एनपीआर और एनआरसी को लागू नहीं करने को मंजूरी दी

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अपना रुख सख्त करते हुए केरल मंत्रिमंडल ने सोमवार को विशेष बैठक करने के बाद जनगणना आयुक्त को...

लीबिया : पाइपलाइन बंद होनें से प्रभावित हुई कच्चे तेल की आपूर्ति, 10 दिनों की ऊंचाई पर पहुंची कीमत

तनावग्रस्त लीबिया से कच्चे तेल की आपूर्ति प्रभावित होने से सोमवार को तेल के दाम में एक फीसदी से ज्यादा की तेजी आई। अंतर्राष्ट्रीय...

मौसम की जानकारी : हिमाचल प्रदेश में कड़ाके की ठंड जारी, अधिक बर्फबारी की संभावना

हिमाचल प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में सोमवार को शीतलहर और कड़ाके की ठंड जारी है। मौसम विभाग ने अपने अनुमान में राज्यभर में और...

हवाई : होनोलुलु में गोलीबारी, दो पुलिस अधिकारियों की मौत

हवाई की राजधानी होनोलुलु में गोलीबारी की घटना में दो पुलिस अधिकारी मारे गए। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, हवाई न्यूज नाउ के हवाले...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -