मंगलवार, जनवरी 21, 2020

अमेरिका से दूरियों के बीच पाकिस्तान ने माँगा चीन का समर्थन

Must Read

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप)...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने आतंकवाद का साथ देने के लिए पाकिस्तान को चेताया था। पाकिस्तान ने इसका कड़ा विरोध किया था। पाकिस्तान के हालिया फैसलों से यह साफ है कि भविष्य में पाकिस्तान और अमेरिका के बीच संबंधों में और दूरियां आ सकती हैं।

आपको बता दें कि हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिका का अफगानिस्तान में आतंवादियों के खिलाफ चल रहे युद्ध के बारे में भाषण दिया था। इस दौरान डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि पाकिस्तान आतंकवादियों को शरण देता आया है। पाकिस्तान के ऊपर जल्द कोई ना कोई फैसला करना होगा। पाकिस्तानी अधिकारीयों ने ट्रम्प के इस भाषण का जबरदस्त विरोध किया था। इसके साथ ही चीन ने पाकिस्तान का इस मसले पर साथ दिया था।

चीन ने कहा था कि पाकिस्तान सालों से आतंकवाद से लड़ता आया है। चीन के मुताबिक पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में बहुत सी जन-सम्पति को खोया है। इससे पहले चीनी उपराष्ट्रपति ने पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस पर पाकिस्तान का दौरा किया था। पाकिस्तान चीन का आर्थिक गलियारे का निर्माण में मदद कर रहा है। इसी के साथ चीन भी पकिस्तान में करोड़ों डॉलर निवेश कर रहा है।

डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने भाषण में अफगानिस्तान में भारत की भूमिका का जिक्र भी किया था। ट्रम्प ने कहा था कि हम भारत की भूमिका की सराहना करते हैं और भविष्य में आशा करते हैं कि भारत इस मसले में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाएगा। पाकिस्तान को भारत की अफगानिस्तान में बढ़ती भूमिका से भी खतरा नज़र आ रहा है। भारत और अमेरिका को पाकिस्तान अपने लिए एक विरोधी के रूप में देख रहा है। ऐसे में पाकिस्तान के पास सिर्फ एक ही रास्ता है, और वह है चीन से अपने रिश्ते अच्छे करना।

अमेरिका के खिलाफ पाकिस्तान ने अपना रवैया साफ कर दिया है। हाल ही में पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने अपने अमेरिकी दौरे को स्थगित कर दिया था। इससे पहले भी उन्होंने पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच हुई बैठक को स्थगित कर दी थी। इसके बाद अमेरिकी मीडिया ने पाकिस्तान पर जमकर सवाल उठाये हैं।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप) के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने...

झारखंड : नई सरकार के शपथ ग्रहण के 24 दिनों बाद भी नहीं हुआ मंत्रिमंडल विस्तार, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

झारखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण 29 दिसंबर को हुआ था। अबतक 24 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार...

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मनाया 48 वां राज्य दिवस

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मंगलवार को अलग-अलग अपना 48वां राज्य दिवस मनाया। इस मौके पर कई रंगा-रंग कार्यक्रम पेश किए गए। राष्ट्रपति रामनाथ...

महाराष्ट्र : भाजपा ने राकांपा के मंत्री के बयान पर आपत्ति जताई, बताया हिंदू विरोधी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अवध के बायन पर मंगलवार को कड़ी आपत्ति...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -