बुधवार, जनवरी 22, 2020

अमेरिका-सऊदी अरब ने रक्षा संबंधो और क्षेत्रीय सुरक्षा पर की चर्चा

Must Read

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप)...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

सऊदी अरब के उप रक्षा मंत्री ने बुधवार को कहा कि “उन्होंने अमेरिका के आला स्तर के सरकारी अधिकारियो के साथ सैन्य सहयोग और क्षेत्रीय सुरक्षा पर चर्चा की थी।” सऊदी की तेल कंपनियों पर सितम्बर में ड्रोन हमले के बाद ईरान के साथ तनाव काफी बढ़ गया है।

इस हमले की जिम्मेदारी हौथी विद्रोहियों ने ली थी। अलबत्ता रियाद और अमेरिका ने इसका कसूरवार तेहरान को ठहराया है हालाँकि तेहरान ने इससे इनकार किया है। ट्वीट में सऊदी अरब के उप रक्षा मंत्री प्रिंस खालिद बिन सलमान ने कहा कि “उन्होंने अमेरिका के राज्य सचिव माइक पोम्पियो और रक्षा सचिव मार्क एस्पर के साथ बैठक की थी।”

पोम्पियो के साथ वार्ता के सन्दर्भ में खालिद ने कहा कि “दोनों अमेरिका और रियाद क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक दूजे के साथ खड़े हैं। एस्पर ने द्विपक्षीय सुरक्षा के जोखिमो पर चर्चा की और आतंकवाद के खात्मे में मजबूत सैन्य सहयोग को दोहराया है और शान्ति व स्थिरता की रक्षा करने की प्रतिबद्धता दी है।”

21 सितम्बर को यमन के हौथी विद्रोहियों के एक अधिकारी ने ऐलान किया था कि वह अपनी बैलिस्टिक मिसाइल या सैन्य ड्रोन से सऊदी अरब को निशाना बनायेंगे। उन्होंने चेतावनी दी कि यमन में नागरिक युद्ध में विस्तार किसी भी पक्ष के लिए  लाभदायक नहीं होगा।

यह ऐलान हौथियो के शीर्ष राजनीतिक परिषद् के प्रमुख अल मशत ने की थी जो यमन में विद्रहियो के नियंत्रित इलाके का इन चार्ज हैं। उन्होंने कहा कि “हमने सऊदी अरब की सरजमीं पर सैन्य ड्रोन, बैलिस्टिक मिसाइल और अन्य तरीको के हथियारों से निशाना बनाने की योजना बनायीं है और हम उनकी तरफ से परस्पर जवाब का इंतजार करेंगे।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप) के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने...

झारखंड : नई सरकार के शपथ ग्रहण के 24 दिनों बाद भी नहीं हुआ मंत्रिमंडल विस्तार, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

झारखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण 29 दिसंबर को हुआ था। अबतक 24 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार...

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मनाया 48 वां राज्य दिवस

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मंगलवार को अलग-अलग अपना 48वां राज्य दिवस मनाया। इस मौके पर कई रंगा-रंग कार्यक्रम पेश किए गए। राष्ट्रपति रामनाथ...

महाराष्ट्र : भाजपा ने राकांपा के मंत्री के बयान पर आपत्ति जताई, बताया हिंदू विरोधी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अवध के बायन पर मंगलवार को कड़ी आपत्ति...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -