Wed. Feb 1st, 2023
    अमेरिका के रूस पर आरोप

    अमेरिका ने सोमवार को रूस को अपनी क्रूज मिसाइल प्रणाली को ध्वस्त करने के लिए कहा है। अमेरिका ने कहा कि रूस निरंतर और सीधे तौर पर इंटरमिडीएट रेंज न्यूक्लियर संधि का उल्लंघन कर रहा है और मास्को पर वैश्विक सुरक्षा को अस्थिर करने का आरोप लगाया था।

    अमेरिकी राजदूत रोबर्ट वुड ने कहा कि यह मिसाइल प्रणाली पारंपरिक और परमाणु जंग के लिए सक्षम है और यूरोप व एशिया के लिए सीधे तौर पर एक खतरे का प्रतिनिधित्व करता है। इसकी रेंज 500 से 1500 की किलोमीटर प्रतिघंटे हैं। बीते सप्ताह अमेरिका ने रूस के आईएनएफ संधि के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था। अमेरिका ने खुद को इस संधि से अगले माह अलग करने का मन बना लिया है।

    राजदूत ने कहा कि ‘दुर्भाग्यवश अमेरिका को यह क्जानकारी मिली कि रस पर हथियार नियंत्रण को लेकर भरोसा नहीं किया जा सकता है। विश्व में रूस की आक्रमक नीति और कुकर्मो से काफी विवाद बढ़ गया है।’ इस मंच पर मौजूद रुसी प्रतिनिधिमंडल ने इस पर तत्काल प्रतिक्रिया नहीं दी है।

    हाल ही में रूस ने एसएससी- 8/9एम729 अवैध मिसाइल का हाल ही परिक्षण किया है। रोबर्ट वुड ने कहा कि रूस को आईएनएफ संधि में वापस आने के लिए सभी मिसाइल, लांचर और अन्य उपकरणों को ध्वस्त करना होगा। उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प के फ़रवरी में इस संधि से बाहर निकलने की योजना को दोहराया जो साल 1987 में हुई थी।

    उन्होंने कहा कि रुस सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को समर्थन करता है और इरान को आधुनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली तकनीक मुहैया करता है। उन्होंने कहा कि रूस ने पूर्व रुसी ख़ुफ़िया जासूस सेर्गेई स्क्रिपल और उनकी पुत्री की हत्या के करने के लिए नर्व एजेंट का इस्तेमाल किया था।

    बीते वर्ष ब्रिटेन ने रूस का असली चेहरा उजागर किया था और यह दिखाया था कि रूस का व्यवहार लापरवाह है और वह रासनायिक पदार्थों पर प्रतिबन्ध लगाने की अपनी जिम्मेदारी को पूरा करने में विफल है।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *