शुक्रवार, फ़रवरी 28, 2020

अमेरिका ने तोड़ी रूस से परमाणु हथियार संधि, रूस नें किया पलटवार

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका और रूस के मध्य खुद को सर्वशक्तिमान साबित करने की होड़ लगी हुई है। इसी के मद्देनजर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने रूस के साथ हुई परमाणु संधि को तोड़ दिया है। डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि रूस के उल्लंघन के कारण शीत युद्ध के दौरान हुई संधि से अमेरिका बाहर निकलना चाहता है।

साल 1987 में दी इंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्सेस ट्रीटी अमेरिका के राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और सोवियत संघ के नेता मिखाइल गोर्बाचेव के बीच हुई थी। इस संधि के मुताबिक दोनों राष्ट्र शोर्ट रेंज और इंटरमीडिएट रेंज के हथियार का निर्माण नहीं कर रहे सकते थे।

डोनाल्ड ट्रम्प ने कल एक रैली में पत्रकारों से कहा कि अफ़सोस रूस इस संधि से संतुष्ट नहीं था इसलिए हम इस समझौते को तोड़ते हैं और हम इससे बाहर निकलते हैं।

रुसी विदेश प्रवक्ता ने इस बारे में कहा कि खुदगर्ज अमेरिका का इस संधि से बाहर निकलना बहुत खतरनाक साबित होगा। रूस प्रतिशोध के लिए सैन्य तकनीक का नेतृत्व करेगा। उन्होंने कहा कि अमेरिका के लिए इस संधि को तोड़ना मुनासिब नहीं होगा।

डोनाल्ड ट्रम्प के सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन अगले सप्ताह बैठक के लिए मास्को जायेंगे। रुसी प्रवक्ता ने कहा कि दौरे के दौरान व्लामिदिर पुतिन इस मसले पर अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार से जवाब मांगेंगे।

अमेरीकी विभाग को यकीन है कि रूस इस संधि का उल्लंघन कर परमाणु हथियार का निर्माण कर रहा है। इस परमाणु हथियार का इस्तेमाल रूस यूरोप में करेगा। डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका भी हथियारों का निर्माण करेगा।

रुसी प्रवक्ता ने कहा कि जब अमेरिका इस संधि से बाहर निकल चुका है तो रूस के पास एक समक्ष प्रतिशोध के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं बचता है। उन्होंने कहा अमेरिका का इस संधि से बाहर निकलना बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

रुसी प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका इस संधि का उपयोग रूस को ब्लैकमेल करने के लिए कर रहा है और वैश्विक सुरक्षा को खतरे में डाल रहा है।

जर्मनी के विदेश प्रवक्ता ने इस बारे में कहा है कि 30 वर्षीय यह संधि यूरोप की सुरक्षा का ढांचा था। उन्होंने कहा वह अमेरिका से दरख्वास्त करेंगे कि इस संधि को तोड़ने के परिणाम को समझकर ही निर्णय ले।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -