अमेरिका के विशेष राजदूत ख़लीलज़ाद पहुंचे पाकिस्तान, अफगानिस्तान शांति प्रक्रिया पर होगी बातचीत

Must Read

भारत-चीन विवाद पर प्रधानमंत्री मोदी ने बुलाई सभी पार्टियों की बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के साथ सीमा संघर्ष पर शुक्रवार को एक सर्वदलीय बैठक को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने...

चीन का तिब्बत प्लान और सीमा पर भारत द्वारा निर्माण कार्य – जानें भारत-चीन झड़प के संभावित कारण

विश्लेषकों का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास चीन (China) की भारी टुकड़ी के जमा होने...

लद्दाख: भारत चीन सीमा पर दोनों सेनाओं में झड़प, तीन भारतीय सैनिक शहीद

भारत चीन (China) सीमा पर कल रात हुई हिंसक झड़प में एक अफसर और दो सैनिकों सहित कुल तीन...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान की शान्ति प्रक्रिया के अमेरिकी विशेष प्रतिनिधि जलमय ख़लीलज़ाद रविवार को दो सप्ताह के शान्ति अभियान पर इस्लामाबाद पहुंचे थे। इस दौरान वह संयुक्त अरब अमीरात, क़तर, जर्मनी, बेल्जियम, अफगानिस्तान की यात्रा करेंगे ताकि 18 वर्षों के युद्ध को समाप्त किया जा सके।

ख़लीलज़ाद की पाक यात्रा

डॉन न्यूज़ रिपोर्ट के मुताबिक, ख़लीलज़ाद के नेतृत्व में अमेरिकी नेताओं का एक समूह भी पाकिस्तान अधिकारीयों के साथ द्विपक्षीय वार्ता के लिए गया है। इस सम्मेलन में विदेश विभाग के अतिरिक्त सचिव आफताब अख्तर और विदेश व रक्षा मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारी पाकिस्तानी पक्ष की अध्यक्षता करेंगे।

पाकिस्तानी विदेश विभाग के मुताबिक, दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय सहयोग और संबंधों पर चर्चा की थी, इसमें हालात और क्षेत्रीय कानून, अफगान शांति प्रक्रिया और संयुक्त हितो के अन्य मामले भी शमिल है।

पाकिस्तानी विदेश विभाग ने जारी बयान में कहा कि “प्रधानमंत्री इमरान खान के दृष्टिकोण से इस्लामाबाद अफगान शांति अभियान में अपना महत्वपूर्ण किरदार निभाना जारी रखेगा। ताकि क्षेत्रीय सुरक्षा और शांति कायम रहे।” तालिबान और  पाकिस्तान के करीबी सम्बन्धो को माना जाता है।

अफगान शांति में पाक की भूमिका

जलमय ख़लीलज़ाद ने अफगान शांति प्रक्रिया में पाकिस्तान के प्रयासों की सराहना की है और पाकिस्तान से अफगानिस्तान के आगामी चुनावो और तालिबानी अधिकारीयों के साथ शान्ति वार्ता के प्रति भी बराबर गंभीरता व्यक्त करने का आग्रह किया है।

अफगानिस्तान में चुनावो को दूसरी दफा स्थगित कर दिया गया था जो शुरुआत में 20 अप्रैल को होने थे लेकिन सुरक्षा कारणों से इसे स्थगित कर दिया गया था। 28 सितम्बर से चुनावो को टाला जा रहा है और इसका कारण तालिबान के साथ चर्चा के लिए समय है।

अफगान सरकार के साथ तालिबान सीधे बातचीत के लिए इंकार करता है क्योंकि उन्हें अफगानी सरकार अमेरिका के हाथो की कठपुतली लगती है। अप्रैल में अंतर अफगान वार्ता का दोहा में आयोजन होना था लेकिन बैठक में शामिल अफगानी अधिकारीयों की सूची पर तालिबान ने आपत्ति दर्ज की थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

भारत-चीन विवाद पर प्रधानमंत्री मोदी ने बुलाई सभी पार्टियों की बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के साथ सीमा संघर्ष पर शुक्रवार को एक सर्वदलीय बैठक को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने...

चीन का तिब्बत प्लान और सीमा पर भारत द्वारा निर्माण कार्य – जानें भारत-चीन झड़प के संभावित कारण

विश्लेषकों का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास चीन (China) की भारी टुकड़ी के जमा होने के पीछे कई कारण हो...

लद्दाख: भारत चीन सीमा पर दोनों सेनाओं में झड़प, तीन भारतीय सैनिक शहीद

भारत चीन (China) सीमा पर कल रात हुई हिंसक झड़प में एक अफसर और दो सैनिकों सहित कुल तीन लोग शहीद हो गए हैं।...

कोरोनावायरस अपडेट: महाराष्ट्र में मामले 1 लाख के करीब, स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराई

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के तेजी से बढ़ते मामलों में महाराष्ट्र राज्य सबसे आगे है। राज्य में कल सिर्फ एक दिन में 3,607 नए...

कोरोनावायरस: भारत में आंकड़ा 2.5 लाख के पार, एक दिन में 10,000 नए मामले

भारत में COVID-19 से संक्रमित लोगों की टैली तेजी से बढ़ रही है। संक्रमण की कुल संख्या दो लाख से 2.5 लाख तक पहुंचने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -